ट्रेन में नहीं मिली पेंटर को सीट, तो टूटा सब्र का बांध, उठाया ये कदम और पहुंच गया घर

Share and Spread the love

कोरोना वायरस की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के चलते अपने राज्य के बाहर काम करने वाले वापस अपने गृह राज्य लौट रहे हैं. जिनके लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है. इतनी संख्या में लोग वापस लौट रहे हैं कि हर किसी को ट्रेन में बैठने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है.
लल्लन नाम के एक पेंटर भी अपने घर जाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन में बैठने का इतंजार कर रहे थे. गाजियाबाद में रहने वाले लल्लन स्टेशन पर 3-4 दिन तक श्रमिक स्पेशल ट्रेन में चढ़ने का इंतजार कर रहे थे. चौथे दिन उनके सब्र का बांध टूट गया.
ट्रेन में चढ़ने न मिलने से परेशान लल्लन सीधे बैंक जा पहुंचे. बैंक से लल्लन ने 1.9 लाख रूपये की अपनी सारी बचत निकाल ली. इसके बाद एक सेकेण्ड हैण्ड कार डीलर के पास जा पहुंचे. उन्होंने 1.5 लाख रूपये की एक कार खरीदी और परिवार समेत गोरखपुर के लिए रवाना हो गए. वापस घर लौटते समय उन्होंने एक कसम भी खायी कि कभी वापस नहीं लौटेंगे.
लल्लन गोरखपुर के पीपी गंज में कैथोलिया गांव के निवासी हैं. लल्लन ने बताया कि मैंने और मेरे परिवार ने कई बार कोशिश की कि बस या ट्रेन में जगह मिल जाए. लेकिन बस में काफी भीड़ रहती. उन्होंने कहा कि मैंने अपनी सारी बचत लगा दी ताकि कम से कम मेरा परिवार सुरक्षित रहे.
The post ट्रेन में नहीं मिली पेंटर को सीट, तो टूटा सब्र का बांध, उठाया ये कदम और पहुंच गया घर appeared first on AKHBAAR TIMES.