तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार की इस चिट्ठी को गुस्से में फाड़ डाला, जानें क्या लिखा था?

Share and Spread the love

image credit-social mediaबिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव शुक्रवार को एक बार फिर गुस्से में दिखाई दिए. प्रवासी मजदूरों को लेकर बिहार पुलिस मुख्यालय की ओर से एक चिट्ठी जारी की गई. इस चिट्ठी को लेकर तेजस्वी यादव ने सरकार के प्रति गुस्सा दिखाया. कहा कि बिहार सरकार प्रवासी मजदूरों को दोयम दर्जे का मानती है.
गौरतलब है कि 29 मई को पुलिस मुख्यालय की ओर से जारी की गई चिट्ठी में लिखा गया था कि बिहारी मजदूर जो दूसरे राज्यों से आ रहे हैं. उन्हें रोजगार देना संभव नहीं हैं. इसको देखते हुए वे लोग तनाव में रहेंगे, तनाव में होने की वजह से विधि व्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं. उन्हें रोजगार देना संभव नहीं हैं.
इस पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है. उन्होंने कहा कि अब तो ऐसा लगता है जैसे इन लोगों को बिहार का नागरिक ही नीतीश सरकार नहीं मानती है, कहा कि इस मामले में नीतीश कुमार को जनता के सामने माफी मांगनी पड़ेगी.

हालांकि विपक्ष के इस तरह के तेवर को दिखाते हुए राज्य सरकार ने इस चिट्ठी पर यूटर्न ले लिया है. उधर पुलिस मुख्लालय की ओर से 4 जून को इस चिट्ठी का खंड़न करते हुए कहा गया कि ये भूलवश प्रकाशित हो गया था, इसे वापस लिया जाता है. इस पर तेजस्वी यादव ने उस चिट्ठी को भरी सभा में फाड़ते हुए कहा कि सरकार मजदूरों को धोखा दे रही है, इसे वापस लेने में भी एक सप्ताह लग गया, ये मजदूरों के साथ धोखाधड़ी है.
तेजस्वी यादव ने इसके विरोध में 7 जून को बड़ा आंदोलन करने का भी विचार किया है. उन्होंने कहा कि बिहार की जनता इसका विरोध करेगी हम लोग थाली ताली बजाकर इसका विरोध करेंगे. बिहार सरकार मजदूरों को अपना नहीं समझती है लेकिन राजद उन्हें अपना समझती है.
The post तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार की इस चिट्ठी को गुस्से में फाड़ डाला, जानें क्या लिखा था? appeared first on AKHBAAR TIMES.