एक अनामिका, लेकिन कई फसाने, अब नाम को लेकर हुआ चौंकाने वाला खुलासा

Share and Spread the love

image credit-gettyएक साथ 25 विद्यालयों में नौकरी कर यूपी सरकार को चकमा देने वाली आरोपी शिक्षिका का एक ही नाम अनामिका शुक्ला है. अनामिका के नाम से नौकरी करने वाली शिक्षिका की गिरफ्तारी के बाद कई राज उजागर हुए हैं. आरोपी शिक्षिका ने पूछताछ में कासगंज पुलिस के सामने कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं.
कासगंज में गिरफ्तार हुई शिक्षिका ने बेसिक शिक्षा अधिकारी के सामने फर्जी ढंग से नौकरी पाने की बात को स्वीकार किया. बीएसए अंजली अग्रवाल के मुताबिक आरोपी शिक्षिका ने साल 2018 में कासगंज के कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी पाई थी.
गिरफ्तारी के बाद आरोपी शिक्षिका ने अपना नाम प्रिया पुत्री महिपाल निवासी लखनपुर, कायमगंज, फरु्खाबाद बताया. जबकि विभागीय रिकार्डों की मांनें तो अनामिका शुक्ला पुत्री सुभाष चंद्र शुक्ला निवासी लखनपुर जिला फर्रुखाबाद कस्तूरबा विद्यालय में पूर्णकालिक विज्ञान शिक्षिका के रुप में तैनाती हुई थी.
शिक्षिका की गिरफ्तारी की खबर जब सुर्खियों में आई तो फर्रुखाबाद से उसके नाम को लेकर एक और चौंकाने वाली खबर सामने आई, कायमगंज क्षेत्र के गांव रजपालपुर के प्रधान अनिल गंगवार के अनुसार कासगंज में गिरफ्तार शिक्षिका प्रिया नहीं, बल्कि उनके गांव की सुप्रिया है. कुछ ग्रामीणों ने उसकी फोटो को देखकर उसे पहचाना है.
जब प्रधान अनिल गंगवार ने उसके पिता महीपाल के पास फोन किया तो उन्होंने इसको लेकर कोई जवाब नहीं दिया. ग्रामीणों की मानें तो कायमगंज के एक बेसिक स्कूल के शिक्षक ने सुप्रिया की नौकरी मैनपूरी में कुछ साल पहले ही लगवाई थी. उदर दूसरी ओर आरोपी शिक्षिका के बताए गए पते लखनपुर के प्रधान बबलू पाल ने बताया कि प्रिया नाम की युवती या महीपाल नाम का कोई भी व्यक्ति उनके गांव में नहीं रहता है.
The post एक अनामिका, लेकिन कई फसाने, अब नाम को लेकर हुआ चौंकाने वाला खुलासा appeared first on AKHBAAR TIMES.