भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्या के चुनाव के खिलाफ हाईकोर्ट ने इन तीन वाद बिंदुओं पर मांगा जवाब

Share and Spread the love

इलाहाबाद हाईकोर्ट की ओर से बदायूं संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्या के चुनाव की वैधता की चुनौती याचिका पर तीन बिंदु तय किए गए हैं. कोर्ट ने इन तीनों बिंदुओ पर संघमित्रा मौर्या से जवाब मांगा है. अब याचिका पर सुनवाई 17 जून को की जाएगी.
इस आदेश को न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा ने चुनाव में सपा प्रत्याशी रहें धर्मेंद्र यादव और दिनेश कुमार की चुनाव याचिका पर दिया है. हाईकोर्ट इन तीन वाद बिंदुओं पर सुनवाई करेगा.
क्या भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्या का नामांकन गलत तरीके से निर्वाचन अधिकारी ने स्वीकार किया है?
क्या दिनेश कुमार का नामांकन गलत तरीके से निरस्त किया गया है?
क्या ड़ाले गए वोटों से अधिक की गिनती की गई है, जिससे चुनाव प्रभावित हो सकता है.
इसके साथ ही कोर्ट ये भी देखेगा कि क्या चुनाव शून्य और रद्द करने के योग्य है.
गौरतलब है कि संघमित्रा के खिलाफ धर्मेंद यादव व दिनेश कुमार ने धांधली का आरोप लगाया है, आरोप है कि उन्हें जिताने के लिए पडे वोटों से अधिक की गिनती की गई. इसके साथ ही प्रशासन पर दबाव ड़ालकर दूसरे प्रत्याशियों का नामांकन गलत तरीके से निरस्त कराया गया है.

बता दें कि समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद और बदायूं सीट से भाजपा सांसद संघमित्रा के खिलाफ हाईकोर्ट में चुनाव याचिका दाखिल की है.
धर्मेंद यादव का पूरे मामले में कहना है कि चुनाव के दौरान 24 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था. इसमें केवल नौ को ही स्वीकृत किया गया था, नामांकन पत्रों को मनमाने तरीके से अस्वीकृत कराया गया.
चुनाव के परिणामों के दौरान 8 हजार वोटों की अधिक गिनती की गई जो चुनाव को प्रभावित कर सकती है. इसके साथ ही ये भी कहा गया है कि संघमित्री मौर्या की शादी नवल किशोर मौर्य के साथ हुई. उनके एक बेटा भी है, इस तथ्य को चुनाव घोषणा पत्र में छिपाया गया है.
The post भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्या के चुनाव के खिलाफ हाईकोर्ट ने इन तीन वाद बिंदुओं पर मांगा जवाब appeared first on AKHBAAR TIMES.