बिहार महागठबंधन में मची रार, तेजस्वी को नेता मानने तैयार नहीं मांझी, तीसरे मोर्चे की तैयारी!

Share and Spread the love

कोरोना संकट के बीच बिहार की सभी राजनैतिक पार्टियां चुनावी मोड में आ गई हैं. एक तरफ भाजपा ने वर्चुअल रैली कर चुनाव प्रचार अभियान का शंखनाद कर दिया है. वहीं दूसरी ओर महागठबंधन के नेताओं के बीच खींचातानी तेज हो गई है.
महागठबंधन में शामिल तमाम दलों के नेता तेजस्वी यादव को अपना नेता नहीं मान रहे हैं. उनका कहना है कि तेजस्वी किसी की सुनते ही नहीं. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने साफ कह दिया है कि तेजस्वी महागठबंधन के नेता नहीं हैं.
मांझी कई छोटे दलों के नेताओं के साथ बैठक कर राजद पर दबाव बना रहे हैं मगर राजद अपनी जिद पर अड़ी हुई है. हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान का कहना है कि अभी तक महागठबंधन में कोआर्डिनेशन कमेटी का गठन नहीं किया गया है. ये कमटी ही तय करेगी कि बिहार में मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा. उनका ये भी कहना है कि अगर लालू यादव बाहर होते तो ये दिक्कत न होती.

सूत्रों के हवाले से जानकारी है कि कई छोटे दलों के नेता कांग्रेस के नेताओं के संपर्क में हैं. वंचित समाज पार्टी के उपाध्यक्ष ललित मोहन सिंह ने कहा कि कई छोटे दल उनके संपर्क में हैं.
बिहार युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार ने इन बातों से इंकार करते हुए कहा कि महागठबंधन में कोई दरार नहीं है. सब एकजुट हैं. उन्होंने कहा कि अगर हम आपस में एकजुट नहीं हुए तो इसका सीधा फायदा बीजेपी और जेडीयू को होगा. राजद ने भी कहा है कि सब एकजुट हैं, कही कोई समस्या होगा तो बातचीत के जरिए सुलझा ली जाएगी.
The post बिहार महागठबंधन में मची रार, तेजस्वी को नेता मानने तैयार नहीं मांझी, तीसरे मोर्चे की तैयारी! appeared first on AKHBAAR TIMES.