उपचुनाव में जीत के लिए कमलनाथ का 2018 विधानसभा चुनाव वाला फार्मूला, कितना कारगर?

Share and Spread the love

मध्यप्रदेश में होने वाले उपचुनावों को लेकर जीत की रणनीति बनाने में बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस भी जोर शोर से जुटी हुई है. सत्ता में आने के लिए कांग्रेस ने साल 2018 के फार्मूले को लागू करने की तैयारी कर ली है.
इसके लिए सूबे के पूर्व सीएम कमलनाथ ने निजी एजेंसियों को चुनाव के रण में उतार दिया है. जिन 15 जिलों की 24 विधानसभा सीटों में चुनाव होने वाले हैं. वहां पर तीन अलग-अलग एजेंसियां सर्वे करने में जुटी हुई है. जिसमें विधानमसभावार, जातीय समीकरणों को ध्यान में रखते हुए जिताऊ उम्मीदवारों को ढूंढा जा रहा है.
एजेंसियों से मिलने वाली रिपोर्ट के आधार पर ही 24 सीटों के लिए स्थनीय घोषणा पत्र और जिताऊ उम्मीदवारों के नाम प मुहर लगाई जाएगी. दरअसल साल 2018 में भी कमलनाथ ने निजी सर्वें के बाद ही उम्मीदवारों के नामों को फाइनल किया था. और इसी फार्मूले के आधार पर कमलनाथ ने बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने में सफलता हासिल की थी.

कमलनाथ को इस बार भी उम्मीद है कि सर्वे के आधार पर प्रत्याशी चयन में पार्टी बीजेपी प्रत्याशियों को कड़ी टक्कर देने में सफलता अर्जित करेगी. इस समय कमलनाथ प्रत्येक दिन एक से लेकर दो विधानसभा सीटों की कुछ समीझा कर रहे हैं.
पार्टी की ओर से पहले ही साफ कर दिया है कि उपचुनाव में उन्हें ही टिकट दिया जाएगा जो उम्मीदवार जीतने की स्थिति में होगा. इसके लिए सर्वे कराया जा रहा है. हाल ही में बीजेपी और बीएसपी को छोड़कर कई नेता कांग्रेस में शामिल हुए हैं. और ऐसे में कांग्रेस के अंदर टिकट की दावेदारी को लेकर घमासान मचा हुआ है, इस घमासान को खत्म करने के लिए पार्टी ने साफ कर दिया है कि उपचुनाव में पार्टी उसे ही टिकट देगी जो जीतने का दम रखता हो उसका आधार सर्वे होगा.
The post उपचुनाव में जीत के लिए कमलनाथ का 2018 विधानसभा चुनाव वाला फार्मूला, कितना कारगर? appeared first on AKHBAAR TIMES.