जन्मदिन विशेषः जब गायब हो गए थे ‘लड़ाका लालू, तब उनके हनुमान ने किया ये काम!

Share and Spread the love

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को लोग राजनीतिक लड़ाका के नाम से भी जानते हैं. उनको इस नाम की पदवी लोग इसलिए देते हैं क्योंकि वे विपरीत परिस्थितियों में भी किसी के सामने झुके नहीं. कई बार तमाम दबावों के मौजूद समझौता नहीं किया.
बीजेपी नेता व पूर्व डिप्टी पीएम लालकृष्ण आडवाणी की गिरफ्तारी उनके राजनैतिक जीवन की एक न मिटा पाने वाली उपलब्धि है. आज के इस दौर में भी वे एक सेक्यूलर नेता के तौर पर भी जाने जाते हैं. हालांकि वक्त हमेशा एक सा नहीं रहता और कभी बिहार की राजनीति में एकछत्र राज करने वाले लालू यादव आज चारा घोटाले मामले में सजायाफ्ता हैं और रांची के होटवार जेल में बंद हैं.
लेकिन इसके पहले लालू यादव और उसके बाद उनकी पत्नी राबड़ी देवी ने बिहार में 15 सालों तक शासन किया था. उस समय उनकी सत्ता में पकड़ थी, लेकिन आज के परिद्रश्य में सबकुछ बदल गया है. राजनीतिक जानकारों का मानना है एक ऐसा दौर भी आया जो अवसान काल कहा गया. तब बीजेपी के सहयोग से नीतीश कुमार ने लालू-राबड़ी देवी से शासन की बाग़डोर को छीन लिया था.

हालांकि इस समय भी लालू यादव हौसला नहीं छोड़ा था और अगले विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए तमाम रणनीतियां तैयार की थी. साल 2010 के विधानसभा चुनावों में भी लालू यादव की पार्टी राजद की हार हुई और नीतीश कुमार फिर से सत्ता पर काबिज हुए. तो लालू यादव ने 2010 के चुनावों के नतीजों के बाद अज्ञातवास ले लिया था इसके बाद वे राजनीतिक सदमें में चले गए थे.
गौरतलब है कि साल 2010 के विधानसभा चुनाव में राजद को हार का सामना करना पड़ा था, इस चुनाव में जेडीयू और बीजेपी ने मिलकर 243 सीटों में से 206 सीटों पर कब्जा किया था. तो वहीं लालू यादव की राजद को महज 22 सीटें मिली थी. चुनावी नतीजों के बाद लालू यादव एकदम गायब हो गए थे. वे इस समय इतना सदमें में थे कि एक महीने से अधिक वक्त तक वे मीड़िया की सुर्खियों से दूर रहें.
मीडियावालों से लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को भी उनके प्रवास का पता नहीं चल पा रहा था. हालांकि उनके करीबी रहे दों लोगों में से एक पटना के एक पत्रकाप और लालू यादव के हनुमान कहे जाने वाले रामकृपाल यादव को ये जरुर पता था कि वे कहां हैं? ये दोनों लोग भी लालू यादव से सामने आने के लिए कई बार आग्रह कर चुके थे. लेकिन वे सामने आने के लिए तैयार नहीं थे क्योंकि उनको इतनी बड़ी हार पर यकीन नहीं हो पा रहा था. वह इस समय गहरे सदमें थे.
इसके बाद लालू के हनुमान कहे जाने वाले रामकृपाल यादव और राबड़ी देवी के कहने पर वे मीडिया के सामने आए थे.
The post जन्मदिन विशेषः जब गायब हो गए थे ‘लड़ाका लालू, तब उनके हनुमान ने किया ये काम! appeared first on AKHBAAR TIMES.