अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर प्रेस मेंस वेलफेयर एसो के अध्यक्ष जेपी चौधरी ने दिया ये संदेश

Share and Spread the love

आज अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस है. यूनेस्को महासम्मेलन की अनुशंसा के बाद संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 3 मई 1993 को पहली बार प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने की घोषणा की थी. तक से लेकर आज तक हर साल 3 मई को प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है. इस साल की थीम है पत्रकारिता बिना डर या एहसान के.
इस मौके पर प्रेस मेंस वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष और पंजाब केसरी के पटना ब्यूरो चीफ जेपी चौधरी ने सभी पत्राकरों को इस दिन की बधाई दी. उन्होंने कहा कि पत्रकार समाज का आइना होता है जो अपने जीवन को जोखिम में डालकर संवाद संकलन करता है. समाज एवं सरकार के बीच में सेतू बनकर समाचार परोसता है लेकिन न तो सरकार और न ही समाज उनकी सुरक्षा का गांरटी देता है.

चौधरी ने कहा कि आज पूरे विश्व में कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रहा है, उसमे पत्रकार अपने जान को जोखिम में डालकर संक्रमित व्यक्तीयों के पास पहुंचकर समाचार संकलन करके सरकार एवं प्रशासण के बीच पहुंचा रहे है. इसमें कई पत्रकार संक्रमित ही नहीं काल के गाल में चले गए है. ऐसे कमर्ठ पत्रकारो के लिए सरकार कुछ नहीं कर रही है.
जेपी चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वह सभी राज्य सरकारों से मांग करती है कि लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकार भाई बंधुओं को भी कोरोना फाईटर के रूप में देख रही है, तो ऐसी स्थिति में महामारी में संलगन अन्य लोगों की भांति पत्रकारो को भी सुविधा व आर्थिक लाभ मिलना चाहिए.

चौधरी ने कहा कि यूनेस्को द्वारा वर्ष 1997 से हर साल 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर गिलेरमो कानो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम प्राइज भी दिया जाता है. यह पुरस्कार उस व्यक्ति अथवा संस्थान को दिया जाता है जिसने प्रेस की स्वतंत्रता के लिए उल्लेखनीय कार्य किया हो.
भारत में प्रेस की स्वतंत्रता भारतीय संविधान के अनुच्छेद-19 में भारतीयों को दिए गए अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार से सुनिश्चित होती है.
The post अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर प्रेस मेंस वेलफेयर एसो के अध्यक्ष जेपी चौधरी ने दिया ये संदेश appeared first on AKHBAAR TIMES.