तो क्या पान मसाला हो जाएगा मंहगा? अगली बैठक में बढ़ सकता है टैक्स

Share and Spread the love

जीएसटी परिषद की होने वाली अगली बैठक में पान मसाला व विनिर्माण के स्तर पर ईट पर उपकर वसूलने के बारे में चर्चा हो सकती है. कर चोरी पर लगाम और राजस्व संग्रह बढ़ाने के लिए इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है. जीएसटी परिषद की शुक्रवार को हुई 40वीं बैठक में उत्तर प्रदेश ने ईट भट्टा और पान मसाला से संबंधित मुद्दे को उठाया.
मौजूदा समय में पान मसाला पर 28 प्रतिशत की दर से जीएसटी और 60 प्रतिशत की दर से उपकर लग रहा है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया है कि दर के बारे में राज्य पूछ रहे हैं. मामले को उत्तर प्रदेश के मंत्री ने उठाया है.
बैठक के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि वे(राज्य) इन समिग्रियों को लेकर दर के बारे में पूछ रहे हैं. उत्तर प्रदेश के मंत्री ने इसे जोर देकर उठाया, क्योंकि वह अपने राज्य के लिए राजस्व जुटाना चाहते हैं और चाहते हैं कि जीएसटी परिषद इस बारे में शीघ्रता से निर्णय ले. मैंने उन्हें आश्वासन दिया है कि जीएसटी परिषद की अगली नियमित बैठक में हम इस मुद्दे को चर्चा के लिए सामने रखेंगे.
सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश ने निर्माता द्वारा की गयी सप्लाई पर उपकर लागू करने की मौजूदा प्रथा से हट कर उत्पादन क्षमता के आधार पर विनिर्माण के स्तर पर उपकर लगाने की मांग की है. मौजूदा समय में पान मसाला पर 28 प्रतिशत की दर से जीएसटी और 60 प्रतिशत की दर से उपकर लगता है.
वहीं छोटे पैकेट की वजह से इसमें कर चोरी करना आसान हो जाता है. इसकी बिक्री भी नकदी में ही होती है. ऐसे में प्राधिकरणों के लिए अंतिम आपूर्ति का पता लगाना मुश्किल होता है.
The post तो क्या पान मसाला हो जाएगा मंहगा? अगली बैठक में बढ़ सकता है टैक्स appeared first on AKHBAAR TIMES.