भाजपा की अपनों को बचाने व दूसरों को फंसाने की नीति के लिए भी एक STF जांच होः अखिलेश यादव

Share and Spread the love

उत्तर प्रदेश में 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरु होने के बाद से ही विवादों के साये में घिरी हुई नजर आ रही है. इसी के साथ योगी सरकार ने 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया का जांच को एसटीएफ को सौंप दिया है. शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में धांधली का आरोप लगा है.
भर्ती परीक्षा में टापर पर भी सवाल खड़े हुए हैं. ऐसे में डीजीपी मुख्यालय की ओर से शिक्षक भर्ती में यूपी एसटीएफ को इस मामले में जांच के आदेश दिए है.
उधर समाजवाजी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एसटीएफ को ही घेरा है उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उप्र में STF की मनमानी जाँच का खेल शुरू हो गया है, चाहे वो 69000 भर्ती मामला हो या एक नाम से अनेक जगहों पर नौकरी करने या पशुधन मंत्री के निजी सचिव के प्रश्रय में ठेकेदारी के नाम पर करोड़ों का घोटाला या रामपुर में मो. आज़म साहब की जाँच हो. भाजपा की अपनों को बचाने व दूसरों को फँसाने की नीति के लिए भी एक STF जाँच हो.
गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट और सुप्रीमकोर्ट की ओर से ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद इस भर्ती प्रक्रिया को शुरु करने का काम किया गया था, सफल अभ्यर्थियों की लिस्ट जारी कर गई थी. लेकिन काउंसलिंग वाले दिन है हाईकोर्ट की ओर से आए एक आदेश में भर्ती प्रक्रिया पर स्टे लगा दिया गया था.

The post भाजपा की अपनों को बचाने व दूसरों को फंसाने की नीति के लिए भी एक STF जांच होः अखिलेश यादव appeared first on AKHBAAR TIMES.