सिंधिया के बचाव में आए कृषि मंत्री कमल पटेल, बताया उनकी ईमानदारी का प्रमाण

Share and Spread the love

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कांग्रेस की ओर से लगातार जुबानी हमले जारी है. लेकिन अब सिंधिया के बचाव में आए कृषि मंत्री कमल पटेल का कहना है कि सिंधिया की लोकप्रियता और ईमानदारी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 22 लोगों की विधायकी छोड़ना. कृषि मंत्री पटेल ने सिंधिया को ईमानदार, जनता का हितैषी और जनाधार वाला नेता बताया है.
पटेल ने आईएएनएस से बातचीत करते हुए कमल पटेल ने कहा कि वर्तमान दौर में ऐसे कम ही नेता हैं जिनके समर्थन में लोग सरपंची तक छोड़े, मगर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जनता की लड़ाई लड़ी तो उनके साथ 22 विधायक भी आ गए कि उन्होंने विधायकी भी छोड़ दी. इनमें 6 लोग तो ऐसे भी थे जिनके पास कैबिनेट मंत्री का पद था.

ये घटनाक्रम सिंधिया की ईमानदारी, जनहितैषी निर्णय और जनाधार का खुलासा करने वाला है. सिंधिया के कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जाने के बाग कांग्रेस के तत्तकालीन 22 विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद भाजपा का दामन थाम लिया था. जिसके बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी. इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सरकार बनी.
पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस द्वारा सिंधिया को चेहरा बनाए जाने का जिक्र करते हुए पटेल ने कहा कि कांग्रेस ने सिंधिया को आगे करके चुनाव लड़ा था मगर सत्ता में आने के बाद पार्टी ने कमलनाथ के हाथ में सत्ता की चाबी को सौंप दिया. इसके बाद भी सिंधिया लगातार जनता की आवाज उठाते रहें. जिस पर उसने ये तक कह दिया गया कि उतरना है तो सड़क पर उतर जाएं. इसी कारण सूबे में भाजपा की सरकार बनी. और उन्हें अब जनता की सेवा करने का मौका मिला है.
The post सिंधिया के बचाव में आए कृषि मंत्री कमल पटेल, बताया उनकी ईमानदारी का प्रमाण appeared first on AKHBAAR TIMES.