फेसबुक पर ‘ब्राह्मण विरोधी’ पोस्ट पर लिखने पर दलित नेता को मायावती ने पार्टी से निकाला

Share and Spread the love

उत्तर प्रदेश की राजनीतिक परिद्रश्य को अगर देखा जाए तो सभी पार्टियां दलितों, मुसलमानों और पिछड़ों तक अपनी पहुंच का बनाने की कोशिश कर रही हैं. लेकिन बसपा सुप्रीमों मायावती ने अपनी प्राथमिकताएं उस समय ही स्पष्ट कर दी थी जब फेसबुक पर ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले दलित कार्यकर्ता को ही पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया.
कभी मायावती अगड़ी जातियों के लिए वर्चस्व के खिलाफ बनी पार्टी की नेता मायावती कभी अपने अल ही अवतार को लेकर जानी जाती थी लेकिन अब उनके रुख में बदलाव साफ तौर पर किया जा रहा है. दलित समुदाय से आने वाले संजय भारती को बीएसपी क कोर काडर में गिना जाता था.
उन्हें सलेमपुर विधानसभा क्षेत्र से पार्टी संगठन की जिम्मेदारी भी दी गई थी. बीएसपी के संगठन को देखा जाए तो विधानसभा क्षेत्र का अध्यक्ष ही सबकुछ माना जाता है. संजय भारती नने हाल ही में फेसबुक प्रोफाइल पर कथित रुप से ब्राह्मण समुदाय के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियां की थी.

संजय भारती की इस फेसबुक पोस्ट पर बीएसपी नेतृत्व की नज पड़ी और उनको इसकी कीमत चुकानी पड़ी. गौरतल है कि यूपी में 10 फीसदी आबादी ब्राह्मणों की है. मायावती इस तबके को नाराज नहीं करना चाहती है. इसी वजह से ही मायावती को पार्टी से बाह का रास्ता दिखा दिया है.
हालांकि पार्टी से निकाले जाने पर संजय भारती ने कहा कि मुझे मेरे निष्कासन के बारे में पार्टी की ओर से कुछ नहीं बताया गया है. मुझे इसके बारे में अखबारों के जरिए पता चला. मैंने कभी भी ब्राह्मणों या किसी अन्य जाति के खिलाफ सोशल मीडिया पर नहीं लिखा. संजय ने दावा कि कुछ बसपा नेता उनको बदनाम करने की कोशिश में लगे हुए हैं.
The post फेसबुक पर ‘ब्राह्मण विरोधी’ पोस्ट पर लिखने पर दलित नेता को मायावती ने पार्टी से निकाला appeared first on AKHBAAR TIMES.