प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- आपदा पर आंसू बहाना भारत की फितरत नहीं

Share and Spread the love

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को निजी क्षेत्र के लिए 41 कोयला खदानों की नीलामी की प्रक्रिया की शुरुआत की. अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि भारत की आपदा पर आंसू बहाने की फितरत नहीं है. उन्होंने कहा कि इस संकट को अवसर में बदलेंगे.
प्रधानमंत्री ने कहा कि इस संकट ने भारत को आत्मनिर्भर होने की सीख दी है. उन्होंने कहा कि भारत कोरोना से लड़ेगा और इससे आगे भी बढ़ेगा. आत्मनिर्भर पर उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत आयात पर अपनी निर्भरता को कम करेगा. आत्मनिर्भर यानि भारत आयात खर्च पर होने वाली लाखों करोड़ों रूपये की विदेशी मुद्रा को बचाएगा.
उन्होंने कहा कि आज उर्जा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक बड़ा कदम उठाया जा रहा है. महीने भर में घोषणा, हर रिफोर्म्स, चाहे वो कृषि क्षेत्र में हो, चाहे सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्योग क्षेत्र में हो या फिर अब कोयला और खनन के सेक्टर में हो, तेजी से जमीन पर उतरे रहे हैं.

To make India self-reliant in the energy sector, a major step is being taken today: PM Narendra Modi https://t.co/U9XrdSDOzO
— ANI (@ANI) June 18, 2020

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये दिखाता है कि भारत इस वैश्विक आपदा को अवसर में बदलने के लिए कितना गंभीर है. भारत की आपदा पर आंसू बहाने की फितरत नहीं है. उन्होंने कहा कि एक मजबूत खनन और खनिज क्षेत्र के बिना भारत का आत्मनिर्भर बनना संभव नहीं है. खनिज और खनन अर्थव्यवस्था के मजबूत खंभे हैं.
The post प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- आपदा पर आंसू बहाना भारत की फितरत नहीं appeared first on AKHBAAR TIMES.