चीन के बाद अब नेपाल ने भारत की इस जमीन पर ठोंका दावा, तटबंध निर्माण का काम रूकवाया

Share and Spread the love

Image credit- social mediaभारत और चीन के बीच चल रही तनातनी के बीच अब एक और पड़ोसी देश नेपाल ने भी आंखें तरेरनी शुरू कर दी है. विवादित नक्शा पास करने के बाद अब उसने बिहार के पूर्वी चंपारण जिले की जमीन पर अपना दावा ठोंकते हुए वहां चल राहे तटबंध निर्माण के काम को रूकवा दिया.
चंपारण के जिलाधिकारी कपिल अशोक ने बिहार सरकार और जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया को पूरे मामले की जानकारी देते हुए विवाद को सुलझाने का अनुरोध किया है. डीएम ने कहा कि नेपाल के अधिकारियों ने तटबंध के आखिरी हिस्से के निर्माण कार्य पर आपत्ति जताई, ये जगह भारत-नेपाल सीमा के नजदीक है.
बता दें कि बिहार के जल संसाधन विभाग ने काफी समय पहले इस तटबंध का निर्माण कराया था. हर साल मानसून आने से पहले इसकी मरम्मत का काम किया जाता रहा है. इससे पहले कभी नेपाल ने इस तरह की आपत्ति नहीं जताई थी.

इस बार जब मरम्मत का कार्य शुरू किया गया तो नेपाली अधिकारियों ने आपत्ति जताते हुए काम को रूकवा दिया. ऐसा पहली बार हुआ है कि नेपाल ने इसे अपने क्षेत्र में होने का दावा किया है.
इससे पहले नेपाल की संसद ने एक विवादित नक्शा पास किया है. इस नक्शे में भारत के तीन क्षेत्रों को अपना बताया गया है. इसमें उत्तराखंड के लिपुलेख, कालापानी और लिम्बियापुरा क्षेत्र हैं. नेपाल के दोनों सदनों से ये नक्शा पास हो चुका है. भारत ने नेपाल के इस नक्शे पर कड़ी आपत्ति जताई है.
The post चीन के बाद अब नेपाल ने भारत की इस जमीन पर ठोंका दावा, तटबंध निर्माण का काम रूकवाया appeared first on AKHBAAR TIMES.