राज्यसभा में बढ़ी बीजेपी की ताकत, लेकिन बिल पास कराने के लिए इन पार्टियों की होगी जरूरत

Share and Spread the love

भारतीय जनता पार्टी राज्यसभा में अब और अधिक ताकतवर हो गयी है. उच्च सदन में उसकी संख्या अब बढ़ गयी है. बीजेपी के राज्यसभा में 86 सांसद हो गए हैं. मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस की संख्या बीजेपी की संख्या के आधे से भी कम रह गयी है. कांग्रेस के 41 सांसद हैं. 245 सदस्यीय सदन में नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस यानि एनडीए के अब करीब 100 सदस्य हो गए हैं.
एआईएडीएमके के नौ सांसद, बीजेडी के नौ सांसद, वाईएसआर कांग्रेस के छह सांसद, और कई संबद्ध नामांकित सदस्यों और छोटे दलों का समर्थन हासिल हो जाये तो मोदी सरकार किसी भी बिल को पास करा सकती है.
मध्य प्रदेश और गुजरात में कांग्रेस के कई विधायकों के दलबल की वजह से भाजपा को फायदा हुआ. भाजपा को कुल 17, कांग्रेस को 9, जेडीयू ने तीन, बीजेडी और टीएमसी ने चार-चार, अन्नाद्रमुक और द्रमुक ने तीन-तीन रांकपा, राजद और टीआरएस ने दो-दो सीटों पर जीत दर्ज की है.
चुने गए 61 नए सदस्यों में से 43 ऐसे सांसद हैं जो राज्यसभा में पहली बार चुनकर पहुंचे हैं. जिसमें भाजपा के ज्योतिरादित्य सिंधिया और कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हैं. इससे पहले ये दोनों नेता लोकसभा सदस्य रहे हैं. इन्हें साल 2019 में लोकसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था. पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष एम डॉ एम तंबीदुरै भी चुनाव जीते हैं और राज्यसभा पहुंचे हैं.
The post राज्यसभा में बढ़ी बीजेपी की ताकत, लेकिन बिल पास कराने के लिए इन पार्टियों की होगी जरूरत appeared first on AKHBAAR TIMES.