भारत-चीन सीमा तनाव पर रूस का रुख, किसका देगा साथ?

Share and Spread the love

पिछले काफी समय से भारत-चीन सीमा पर तनाव जारी है. इस बीच रूस में रूस-भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच वर्चुअल बैठक आयोजित हुई. बताया जा रहा है कि शुरुआत में भारत इस त्रिपक्षीय बैठक में शामिल नहीं होना चाहता था, लेकिन आयोजक रूस के अनुरोध के बाद सहमति दे दी.
भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी रूस के विक्ट्री डे परेड में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे हैं. कोरोना महामारी के बाद यह उनका पहला विदेशी दौरा है. परेड में चीन के भी रक्षा मंत्री के शामिल होने की सम्भावना है.
पिछले कुछ वर्षों में रूस और चीन के बीच करीबी बढ़ी है. जिसने भारत की चिंता बढ़ाई है. कुछ दिन पहले ही रूस ने अमेरिका का राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का जी-7 समूह में शामिल होने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था और कहा था कि यह चीन को अलग-थलग करने की रणनीति है.
वहीं मंगलवार को हुई वर्चुअल मीटिंग में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा कि भारत और चीन को अपने विवादों को सुलझाने के लिए किसी बाहरी मदद की जरूरत नहीं है.
उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि भारत और चीन को बाहर से कोई मदद चाहिए. मुझे नहीं लगता कि उन्हें मदद करने की आवश्यकता है. खासकर जब मामला देश के मुद्दों से जुदा हुआ हो. वे उन्हें अपने दम पर हल कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि मेरा मतलब हालिया घटनाक्रमों से है.
The post भारत-चीन सीमा तनाव पर रूस का रुख, किसका देगा साथ? appeared first on AKHBAAR TIMES.