उत्तराखंड सरकार ने रामदेव के दावों की खोली पोल, कहा उनके पास कोरोना की दवा का लाइसेंस नहीं

Share and Spread the love

पतंजलि योगपीठ के गुरू स्वामी रामदेव एक बार फिर मुश्किलों में हैं. उत्तराखंड सरकार ने उनके कोरोना की दवा बनाने के दावे को पूरी तरह से गलत बता दिया है. पूरे मामले को लेकर अब सरकार ने उन्हें नोटिस भी जारी कर दिया है. रामदेव ने दावा किया था कि उनकी कंपनी ने कोरोना की दवा बना ली है और ये दवा 100 प्रतिशत कारगर है.
उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग के लाइसेंस ऑफीसर वाई एस रावत ने कहा कि पतंजलि को कोरोना की दवा बनाने का कोई लाइसेंस जारी नहीं किया गया है. 10 जून को पतंजलि ने 3 प्रोडक्ट्स इम्युनिटी बूस्टर, खांसी और बुखार के प्रोडक्ट के लिए आवेदन दिया था. 12 जून को अप्रूवल दिया गया पर उसमें कहीं भी कोरोना इलाज की दवा का जिक्र नहीं था.

पतंजलि के कोरोना की दवा बनाने के दावे पर केंद्रीय आयुष मंत्रालय के रिपोर्ट मांगने के बाद उत्तराखंड सरकार के आयुर्वेद विभाग ने पतंजलि के दावों को गलत बताते हुए नोटिस जारी किया है.
नोटिस में पूछा गया-पतंजलि को कोरोना किट न्यूज चैनलों पर दिखाने की परमिशन कहाँ से मिली. ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1940 के नियम 170 के तहत उत्पाद का विज्ञापन करने के लिए लाइसेंस अथॉरिटी से परमिशन लेनी होती है. DMRI 1954 के अंतर्गत इस तरह के क्लेम करना वैधानिक नहीं है.

पतंजलि को कोरोना की दवा बनाने का कोई लाइसेंस जारी नहीं किया गया है।10जून को पतंजलि ने 3प्रोडक्ट्स इम्युनिटी बूस्टर,खांसी और बुखार के प्रोडक्ट के लिए आवेदन दिया था।12जून को अप्रूवल दिया गया पर उसमें कहीं भी कोरोना इलाज की दवा का जिक्र नहीं था:लाइसेंस ऑफिसर उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग https://t.co/CzJ93BvKgm
— ANI_HindiNews (@AHindinews) June 24, 2020

The post उत्तराखंड सरकार ने रामदेव के दावों की खोली पोल, कहा उनके पास कोरोना की दवा का लाइसेंस नहीं appeared first on AKHBAAR TIMES.