क्या अजीत पवार को मिली थी शरद पवार की सहमति? देवेंद्र देवेन्द्र फडणवीस ने किया अब ये दावा

Share and Spread the love

महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद काफी सियासी ड्रामा देखने को मिला था. अब महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दावा किया है कि पिछले विधानसभा चुनाव के बाद स्वयं शरद पवार ने भी भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर सरकार बनाने की पेशकश की थी.
फडणवीस ने कहा कि जब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को यह अहसास हुआ कि शिवसेना अपनी पुरानी साथी बीजेपी के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाने वाली है तो भाजपा के साथ सरकार बनाने का प्रस्ताव भेजा था.
उन्होंने कहा कि यह प्रस्ताव सिर्फ अजीत पवार की ओर से नहीं बल्कि पार्टी के मुखिया की ओर से था. उन्होंने कहा कि रांकपा का प्रस्ताव आने के बाद दो बैठकें भी हुईं. एक बैठक में वह शामिल हुए थे दूसरे में नहीं. लेकिन इसके बाद अचानक राकपा ने अपनी भूमिका बदल ली.
फडणवीस ने कहा कि दो तीन दिन कोई बात नहीं हुई. इसके बाद अजीत पवार का प्रस्ताव आया कि तीन दलों की सरकार बनना उन्हें मंजूर नहीं. भाजपा और राकंपा मिलकर राज्य को स्थिर सरकार दे सकते हैं.
लंबे समय तक खिंचे सियासी उठापटक के बाद 28 नवंबर को 56 सीटें पानें वाली शिवसेना ने 54 सीटों वाली राकंपा और 42 सीटों वाली कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना ली थी. बीजेपी को 105 सीटें मिली थीं. हालांकि इससे पहले अजीत पवार के समर्थन के बाद देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और अजीत पवार ने उपमुख्यमंत्री की शपथ ले ली थी, लेकिन दो दिन के अंदर ही त्यागपत्र देना पड़ा था.
The post क्या अजीत पवार को मिली थी शरद पवार की सहमति? देवेंद्र देवेन्द्र फडणवीस ने किया अब ये दावा appeared first on AKHBAAR TIMES.