यही सियासत है, जिन लाइनों से सुषमा स्वराज न कांग्रेस को घेरा था, अब उन्ही का इस्तेमाल राहुल गांधी ने किया

Share and Spread the love

समय के साथ सियासत में चालें बदलती रहती हैं. नेता एक दूसरे पर निशाना साधने के लिए शेरो-शायरी का भी इस्तेमाल करते रहते हैं. पहले भी ये होता आया है अब भी बदस्तूर जारी है. मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया. जिस पर राहुल गांधी ने शायराना अंदाज में निशाना साधा.
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जिस शायरी का इस्तेमाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए किया है उसी का इस्तेमाल कभी भाजपा की दिग्गज नेता रहीं सुषमा स्वराज ने कांग्रेस पर किया था.
साल 2011 में लोकसभा में सुषमा स्वराज ने अपने संबोधन में कहा था कि तू इधर-उधर की बात न कर ये बता कि काफिला क्यों लुटा, मुझे रहजनों से गिला नहीं, तेरी रहबरी पे सवाल है. तब लोकसभा में सांसदों को खरीदकर सरकार बचानेके खुलासे पर चर्चा हो रही थी.
यह शहाब जाफरी का शेर है. जिसका इस्तेमाल राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरने के लिए किया है. कांग्रेस पार्टी ने भी प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा है कि चीन की आलोचना करने वाली बात भूल जाएं, अपने राष्ट्रीय संबोधन में वे इसका जिक्र करने से भी डरते हैं.
दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन कोरोना वायरस और लॉकडाउन पर फोकस रहा. वह चीन को लेकर कुछ नहीं बोले. इससे पहले उम्मीद की जा रही थी कि वह चीन के साथ मसले पर भी बोल सकते हैं.
The post यही सियासत है, जिन लाइनों से सुषमा स्वराज न कांग्रेस को घेरा था, अब उन्ही का इस्तेमाल राहुल गांधी ने किया appeared first on AKHBAAR TIMES.