क्या इस एक चीनी महिला ने बिगाड़े भारत और नेपाल के के बीच रिश्ते?

Share and Spread the love

भारत के पड़ोसी देश नेपाल के साथ रिश्ते काफी अच्छे रहे हैं लेकिन फिलहाल संबंध ख़राब दौर में हैं. नेपाल ने संसद में देश के विवादित नक़्शे को मंजूरी दी है. नक़्शे में भारत के तीन इलाकों लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को अपना हिस्सा बताया है. माना जा रहा है कि ऐसा करने के लिए नेपाल को चीन ने उकसाया है.
ऐसा बताया जा रहा है कि नेपाल में चीन की राजदूत होऊ यांगी का इसमें बड़ा हाथ है. यांगी ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को इसके लिए राजी किया.
होऊ यांगी साल 2018 से नेपाल में चीन की राजदूत के तौर पर काम कर रही हैं. उन्हें दक्षिण एशियाई मामलों का जानकार माना जाता है. वह लंबे समय तक विदेश मंत्रालय में डिप्टी डायरेक्टर की भूमिका में रही हैं. इस दौरान ऐसे फैसले लिए जिससे चीन के संबंध पड़ोसी देशों से प्रभावित हुए.

चीन के राजदूत के तौर पर यांगी पाकिस्तान में भी रह चुकी हैं. यहां वह तीन साल तक रहीं. पाकिस्तान में उनकी सफलता को देखते हुए ही उन्हें नेपाल में राजदूत के तौर पर भेजा गया.
विवादित नक्शा सामने लाने के बाद से भारत और नेपाल के रिश्ते बिगड़े हैं. इसके पीछे यांगी को माना जा रहा है. उन्होंने पीएम ओली और नेपाल की संसद को इसके लिए तैयार किया. ऐसा बताया जाता है कि यांगी पीएम ओली के दफ्तर और उनके निवास पर बिना रोक टोक आती जाती हैं. कहा जा रहा है कि जिस प्रतिनिधिमंडल ने नक़्शे में संशोधन के लिए विधेयक तैयार किया उसके संपर्क में यांगी रही हैं.
The post क्या इस एक चीनी महिला ने बिगाड़े भारत और नेपाल के के बीच रिश्ते? appeared first on AKHBAAR TIMES.