शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के कुछ ही समय बाद बीजेपी में शुरू हुआ विरोध

Share and Spread the love

ज्योतिरादित्य सिंधिया के उलटफेर के चलते ही बीजेपी की मध्य प्रदेश की सत्ता में फिर वापसी हो पायी. सरकार बनने के बाद शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार लगातार टलता रहा. आखिरकार गुरुवार को मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया. लेकिन घंटे भर के भीतर ही बीजेपी के अंदर से विरोध की आवाज उठने लगी.
शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल में सिंधिया का वर्चस्व दिख रहा है. सिंधिया खेमें के 9 लोगों को मंत्री बनाया गया. जबकि दो पहले ही मंत्री बन चुके हैं. कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को गिराने के लिए बीजेपी में जाने वाले 22 विधायकों में शामिल तीन अन्य नेताओं को भी मंत्रिमंडल में जगह मिली.
इंदौर के विधायक रमेश मेंदोला, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विजयवर्गीय के विश्वासपात्र और मंदसौर विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया के समर्थकों ने अपने नेता को मंत्री नहीं बनाए जाने पर विरोध प्रदर्शन किया.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को शायद इसका अंदाजा था. यही वजह रही कि वह दिल्ली में वरिष्ठ भाजपा नेताओं को मंत्रिपरिषद में शामिल करने की बात पार्टी हाईकमान को समझाने की कोशिश कर रहे थे.
पार्टी ने अपने ही नेताओं पर कठोर रुख अपनाया और कांग्रेस से आए नेताओं को तरजीह दी. वहीं गुरुवार को मंत्रिमंडल विस्तार के बाद मुख्यमंत्री चौहान समेत राज्य में कुल मंत्रियों की संख्या 34 हो गयी. पार्टी ने अभी भी कुछ सीटें खाली रखी हैं.
The post शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के कुछ ही समय बाद बीजेपी में शुरू हुआ विरोध appeared first on AKHBAAR TIMES.