प्रियंका गांधी ने कहा मजदूरों के पास न काम, न पैसा, उन्हें इतना मत दबाइये कि वो आहत हो जाएं

Share and Spread the love

कोरोना संक्रमण की वजह देश में पिछले 42 दिनों से लॉकडाउन की स्थिती है, 17 मई तक लॉकडाउन चलेगा उसके बाद ही सरकार आगे कोई फैसला लेगी. लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी गरीबों, मजदूरों, कमजोर वर्ग के लोगों पर पड़ी है.
गुजरात के सूरत में फंसे अन्य राज्यों के मजदूर अपने घर वापस जाने की मांग को लेकर सोमवार को एक बार फिर सड़कों पर आ गए. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन की धज्जियां उड़ने लगी. पुलिस को बल प्रयोग करके उन्हें वापस भेजना पड़ा.
IMAGE CREDIT-SOCIAL MEDIAसरकार और पुलिस के रवैये से नाराज मजदूरों ने यहां तक कह दिया कि हमारे साथ जानवरों जैसा सलूक किया गया है अब हम यहां कभी वापस नहीं आएंगे. उन्होंने कहा कि हमारा जुर्म सिर्फ इतना ही है कि हम अपने घर वापस जाना चाहते हैं.
मजदूरों की व्यथा सामने आने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी सरकार को जमकर घेरा. सूरत की घटना को लेकर प्रियंका गांधी ने कहा कि 40 दिन बीत चुके हैं. मजदूरों के पास न काम, न पैसा, न राशन. सरकारी मदद ढंग से हो नहीं रही. ऐसे में उनके साथ करुणा भरा व्यवहार तो किया जा सकता है. उनको इतना मत दबाइए कि वो आहत हो जाएं. इनकी व्यवस्था कर सही जानकारी देना और घर पहुंचाना सरकार का फर्ज है.
The post प्रियंका गांधी ने कहा मजदूरों के पास न काम, न पैसा, उन्हें इतना मत दबाइये कि वो आहत हो जाएं appeared first on AKHBAAR TIMES.