विकास दुबे कहता था, ये पंडित जी का गांव है यहां सिर्फ सेना ही घुस सकती है…

Share and Spread the love

नाम विकास और काम विनाश करना, कुछ ऐसा ही इतिहास रहा है कानपुर के बिकरू गांव निवासी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का. विकास की पहुंच का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरकार किसी भी दल की हो उसपर अबतक बड़ी कार्रवाई नहीं हुई थी.
प्रदेश के कई राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े नेताओं से उसका संपर्क बताया जा रहा है. 60 से अधिक मुकदमें दर्ज होने के बावजूद वो आराम से घूम रहा था. कानपुर और अन्य शहरों में उसकी संपत्तियों की भरमार है. रूतबा ऐसा कि जेल में रहते जिला पंचायत का चुनाव जीत गया.

विकास दुबे गांव के लोगों से अक्सर कहता था कि ये पंडित जी का गांव है यहां पर सिर्फ सेना ही घुस सकती है. विकास इससे पहले भी कई पुलिसवालों से अभद्रता कर चुका था. बिकरू गांव में उसका मकान किसी किले से कम नहीं था. आज पुलिस ने विकास के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए बिकरू गांव स्थित उसके घर को गिराने का काम शुरू कर दिया है.
विकास का मकान जेल की तरह सुरक्षित बनाया गया है. उसकी दीवारें जेल की तरह 30-40 फिट ऊंची हैं और उसपर कटीले तार लगे हुए हैं. मकान के चारो तरफ सीसीटीवी कैमरों का जाल बिछा हुआ था. मकान में एक बंकर नुमा बेसमेंट भी बनाया गया था. घर में ऐशो आराम का सारा इंतेजाम था. अब उसके आलीशन मकान को जमींदोज किया जा रहा है.
The post विकास दुबे कहता था, ये पंडित जी का गांव है यहां सिर्फ सेना ही घुस सकती है… appeared first on AKHBAAR TIMES.