कानपुर: जिंदा बचने वाले पुलिसकर्मी ने सुनाई आपबीती, बताया कैसे पलक झपकते ही सब हो गया

Share and Spread the love

कानपुर के बिकरु गांव में विकास दुबे को पकड़ने गयी पुलिस की टीम के साथ जो हुआ उस घटना ने प्रदेश को हिला कर रख दिया. आठ पुलिसकर्मियों की जान चली गयी. किसी तरह जान बचाने वाले बिठूर के थानाध्यक्ष कौशलेन्द्र प्रताप सिंह ने आपबीती सुनाई है. बताया कैसे उनकी टीम घेर ली गयी थी.
केपी सिंह ने बताया कि रात का घुप्प अंधेरा था. इस बीच एक दो मंजिला घर की छत पर दो सिर दिखाई दिए. हलचल देखते ही हमने उस घर को घेरना चाहा. कुछ लोग आगे की ओर गए और कुछ पीछे की ओर. मैं दो साथियों के साथ आगे की ओर था.
आगे बताया इससे पहले कुछ कर पाते तभी बगल के घर से अचानक फायरिंग होने लगी. कुछ ही सेकेंड में हम पर बीसियों राउंड फायर कर दिए गए.
रात को साढ़े ग्यारह बजे आया फोन 
केपी सिंह ने बताया कि उनके पास गुरुवार रात को करीब साढ़े ग्यारह बजे फोन चौबेपुर थाने से एसओ विनय तिवारी का आया, कि आ जाइए एक दबिश के लिए चलना है. शिवराजपुर थाने से फ़ोर्स आ रही है और बिल्हौर सीओ साहब भी आ रहे हैं.
उन्होंने कहा कि हमारी गाडियां रास्ते में मिली और हम बिकरू गांव पहुंचे. केपी सिंह ने बताया कि गाँव में दाखिल हुए तो वहां घुप्प अंधेरा था. कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था. जब हमें जेसीबी दिखी तो हमें लगा कि कुछ तो गड़बड़ है क्योंकि जेसीबी को इस तरह कोई खड़ा नहीं करेगा.
उन्होंने बताया कि मैं दो साथियों के साथ घर के आगे की ओर गया. इससे पहले कि हम किसी स्थिति में आया पाते बगल की छत से फायरिंग होने लगी. यह इतनी तेज की कि आधे मिनट में बीसियों राउंड फायर किए गए. इसके बाद सब लोग अलग-थलग पड़ गए.
केपी सिंह के भी एक हाथ और एक पैर में गोली लगी. उनके साथियों के भी गोलियां लगीं. लेकिन वह किसी तरह अपने साथियों को अस्पताल लेकर पहुंचे.
उन्होंने बताया कि जब वह बचने की कोशिश कर रहे थे और ट्रैक्टर के पीछे छिपे थे. तभी आवाज आई बम.. मारो.. बम. हमें लगा कि इन्होने देख लिया है, लेकिन किसी तरह बचते हुए गाड़ी तक पहुंच गए.
The post कानपुर: जिंदा बचने वाले पुलिसकर्मी ने सुनाई आपबीती, बताया कैसे पलक झपकते ही सब हो गया appeared first on AKHBAAR TIMES.