क्या हुआ था उस रात विकास दुबे के गांव में? सस्पेंड एसओ ने बताई कहानी, पुलिस ने दोहराया घटनाक्रम

Share and Spread the love

चौबेपुर थाने के निलंबित एसओ को एसटीएफ मंगलवार को बिकरू गांव लेकर पहुंची. विनय तिवारी के बयान को एसटीएफ ने दर्ज किया है. पुलिस वहां कैसे पहुंची और कैसे बदमाशों ने घेरा इन सवालों के जवाब जानने की कोशिश एसटीएफ ने की. पूछताछ में सामने आया कि विनय खुद ही नहीं थाने की पूरी टीम लेकर सबसे पीछे थे.
टीम जब विकास के घर की ओर बढ़ी तो वह रुक गए और फायरिंग शुरू होते ही पूरी टीम के साथ भाग निकले थे. जिसकी वजह से उन्हें खरोच तक नहीं आ पायी. ऐसे में वह मुठभेड़ की पूरी जानकारी भी नहीं दे सके. क्षेत्र की जानकारी से अनभिज्ञ सीओ और एसओ फंस गए.
एसटीएफ ने घटनाक्रम को दोहराया 
मामले की जांच कर रही एसटीएफ ने मंगलवार को घटनाक्रम को दोहराया. एक ओर पुलिस वाले थे दूसरी ओर पुलिसवाले ही बदमाश बनकर छतों पर चढ़े थे. इसके पीछे एसटीएफ का मकसद डिफेंसिव क्राइमसीन को समझना था. पुलिस विकास के घर की ओर उसी तरह आगे बढ़ी जिस तरह 2 जुलाई की रात दबिश की रणनीति तय की गयी थी.
अधिकारी देखना चाहते थे कि आखिर किन परिस्थितियों में पुलिस अपना बचाव नहीं कर सकी. इस दौरान गांव के अंदर किसी के भी आने-जाने नहीं दिया गया.
The post क्या हुआ था उस रात विकास दुबे के गांव में? सस्पेंड एसओ ने बताई कहानी, पुलिस ने दोहराया घटनाक्रम appeared first on AKHBAAR TIMES.