महिलाओं को बंधक बनाकर विकास दुबे ने फरीदाबाद में ली थी शरण

Share and Spread the love

कानपुर मामले के बाद विकास दुबे का करीब 6 दिनों तक पता ही नहीं चल पाया था. अब धीरे-धीरे सारी कहानी खुलकर आ रही है. 6 जुलाई को वह अपने दो साथियों के साथ ग्रेटर फरीदाबाद में अंकुर मिश्रा के घर रुका था. इस वक्त अंकुर मिश्रा व उसके पिता श्रावण मिश्रा न्यायिक हिरासत में जेल में है.
शुक्रवार को विकास दुबे का एनकाउंटर हो जाने के बाद शांति मिश्रा और गुंजन मिश्रा को उम्मीद है कि अंकुर व श्रवण जल्द ही जेल से बाहर आ जाएंगे. उन्होंने निष्पक्ष जांच की भी मांग की है.
वह बताती हैं कि विकास दुबे से उनकी कोई सीधी रिश्तेदारी नहीं थी. 6 जुलाई को सुबह करीब 9 बजे विकास दुबे, प्रभात मिश्रा और अमर दुबे उसके घर आए थे. उस वक्त शांति व गुंजन मौजूद थीं, परिवार के पुरुष काम पर गए थे. विकास दुबे चेहरे पर मास्क लगाए था और आंखों में चश्मा था इसलिए वह उसे पहचान नहीं पायी. दरवाजा खुलते ही वह साथियों के साथ सीधा घर के अंदर घुस गया.
जब विकास ने मास्क हटाया तो वह पहचान पाती हैं. शान्ति मिश्रा बताती हैं कि उन्होंने विकास से हाथजोड़ कर कहा था कि पंडित तुम यहां से चले जाओ. साथ ही सरेंडर करने की सलाह भी दी थी. लेकिन विकास ने उसे धमकाकर चुप करा दिया.
इसके बाद उसने गुंजन का मोबाइल भी अपने पास रख लिया. रात को जब अंकुर आया तो उसने भी उन्हें घर से चले जाने के लिए कहा, लेकिन उसने उसे भी धमकी दी. रात में अंकुर और श्रवण के पहचान पत्र ले लिए. उन्होंने बताया कि इसके बाद वह चला गया और अंकुर व श्रवण के नाम से होटल में कमरा बुक कराया. इस दौरान अमर और प्रभात उसके घर पर ही रहे. उन्होंने कहा कि इसी वजह से पुलिस को सूचना नहीं दे पाए.
The post महिलाओं को बंधक बनाकर विकास दुबे ने फरीदाबाद में ली थी शरण appeared first on AKHBAAR TIMES.