भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन आयत करने वाले अफसरों को अमेरिका ने हटाया, वैज्ञानिक ने लगाए आरोप

Share and Spread the love

अमेरिका के बर्खास्त वैज्ञानिक ने एक बड़ा आरोप लगाया है. वैज्ञानिक ने ट्रंप प्रशासन पर आरोप लगाया कि कोरोना से जुड़ी चेतावनी को नजरअंदाज किया गया और भारत व पाकिस्तान से बिना जांच के फैक्ट्रियों से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का आयात किया. वैज्ञानिक का कहना है कि देश को अप्रमाणित तथा संभावित रूप से खतरनाक मलेरिया रोधी दवा से भर दिया गया.
वैज्ञानिक रिक ब्राइट ने व्हिसलब्लोअर्स की सुरक्षा संबंधी कार्यालय यूएस ऑफिस ऑफ़ स्पेशल काउंसेल के समक्ष मंगलवार को शिकायत की. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एवं मानव सेवा विभाग के शीर्ष अधिकारीयों ने खासतौर से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन जैसी दवाईयां और निजी सुरक्षा उपकरण के संबंध में उनके तथा अन्य लोगों के संदेशों को बार-बार नजरअंदाज किया.
जब ब्राइट बर्खास्त किए गये तो तब वह स्वास्थ्य एवं मानव सेवा विभाग साथ काम करने वाली अनुसंधान एजेंसी बायोमेडिकल एडवांस्ड रिसर्च एंड डेवेलपमेंट एजेंसी के प्रमुख थे. शिकायत में ऐसा कहा गया कि डॉ. ब्राइट भारत और पाकिस्तान से दवा के आयात को लेकर चिंतित थे. जिसका कारण था कि एफडीए ने दवा या उसे बनाने वाली फैक्ट्री का निरीक्षण नहीं किया था.
आरोप है कि कारखानों की जांच नहीं हुई है. वहां बनने वाली ये दवाएं मिलावटी हो सकती हैं. ट्रंप प्रशासन की ओर से मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के करीब पांच करोड़ गोलियों को आयात किया था.
The post भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन आयत करने वाले अफसरों को अमेरिका ने हटाया, वैज्ञानिक ने लगाए आरोप appeared first on AKHBAAR TIMES.