राजनीति में आने से पहले पत्रकार थे सचिन पायलट, इस मीडिया हाउस में कर चुके काम

Share and Spread the love

सचिन पायलट राजनीति में नहीं आना चाहते थे लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना के चलते उन्हें राजनीति में आना पड़ा. सचिन के पिता का जब निधन हुआ तब वह महज 22 साल के थे. राजनीति में उन्होंने प्रवेश किया और राजस्थान के दौसा से लोकसभा सांसद चुने गए. इसी सीट पर उनके पिता ने पांच से चार बार चुनाव जीता. उनकी मां भी दौसा से सांसद रह चुकी थीं.
सचिन पायलट ने 26 साल की उम्र में पहला चुनाव जीता था. धीरे-धीरे राजस्थान की राजनीति में उन्होंने एक स्थान हासिल कर लिया. राजेश पायलट का उपनाम ‘बिधूड़ी’ था जिसे उन्होंने बदलकर ‘पायलट’ रख लिया था. जब वह जीवित थे तब सचिन पायलट की राजनीति में आने की कोई इच्छा नहीं था.
सचिन पायलट चाहते थे कि वे भारतीय वायु सेना में शामिल हों लेकिन बाद में पता चला कि उनकी नजर कमजोर थी. अपने एक इन्टरव्यू में सचिन पायलट ने बताय था कि वह कॉर्पोरेट जगत में जाना चाहते थे.
वहीं राजनीति में आने से पहले सचिन पायलट ने पत्रकारिता के क्षेत्र में भी काम किया था. उन्होंने बीबीसी न्यूज के दिल्ली ऑफिस में एक प्रशिक्षु पत्रकार के रूप में काम किया. इसके अलावा उन्होंने कुछ समय के लिए अमेरिका वाहन निर्माता कंपनी जनरल मोटर्स में भी काम किया था.
राजनीति में कदम रखने के बाद सचिन पायलट अपने पिता के नक्शेकदम पर चले. वह शुरुआत में जन संपर्क यात्राएं करते और कार भी खुद ही चलाते देखे जाते. महज 32 साल की उम्र में ही वह मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार में मंत्री भी बने.
The post राजनीति में आने से पहले पत्रकार थे सचिन पायलट, इस मीडिया हाउस में कर चुके काम appeared first on AKHBAAR TIMES.