नितीश कुमार का सुशासन 29 दिनों में ही बह गया, कांग्रेस नेता मंजूबाला ने कुछ इस तरह कसा तंज

Share and Spread the love

बिहार के गोपालगंज जिले में एक माह पहले सत्तारघाट पुल मार्ग टूट जाने के बाद सभी विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इसे लेकर सरकार पर घोटाले के आरोप लगने लगे हैं. सभी विपक्षी दल इसपर सरकार से जवाब मांग रहे हैं.
बिहार महिला कांग्रेस की पूर्व उपाध्यक्ष मंजूबाला पाठक ने कहा कि नितीश कुमार का सुशासन मात्र 29 दिनों में ही बह गया. उन्होंने कहा कि अब सवाल ये है कि क्या इसमें भ्रष्टाचार की जांच होगी? और पैसों की रिकवरी कैसे होगी? सरकार को बिहार की लोगो से ये बताना चाहिए.

मंजूबाला पाठक ने कहा कि बिहार इस वक्त डबल मुसीबत से जूझ रहा है. एक तो बाढ़ का कहर और दूसरी तरफ कोरोना की मार, ऊपर से प्रशासन की नाकामी. सुशासन का दावा करने वाली नीतीश सरकार के दावों की पोल गोपालगंज में पुल का एक हिस्सा ढहने से खुल गई. एक महीने पहले ही सत्तरघाट महासेतु का उद्धाटन हुआ था और 264 करोड़ की लागत पानी में बह गई.
उन्होंने कहा कि 16 जून को सीएम नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पुल का उद्घाटन किया था. लोगों का कहना है कि एक माह पूर्व ही इस पुल का उद्घाटन हुआ था. पानी के ज्यादा दबाव के कारण पुल टूट गया है. लोगों के आने-जाने का रास्ता बंद हो गया है. कांग्रेस नेत्री ने कहा कि ये पुल गोपालगंज को चंपारण से और इसके साथ तिरहुत के कई जिलों को जोड़ता था.
The post नितीश कुमार का सुशासन 29 दिनों में ही बह गया, कांग्रेस नेता मंजूबाला ने कुछ इस तरह कसा तंज appeared first on AKHBAAR TIMES.