बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने विपक्षी दलों के साथ की मीटिंग, उठा ये मुद्दा

Share and Spread the love

कोरोना वायरस के प्रकोप ने बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों में अड़चन डाल दी है. कोरोना संकट के बीच चुनाव कब और कैसे हो ये भी बड़ी चुनौती होने वाली है. इसी को लेकर चुनाव आयोग ने बिहार के विपक्षी दलों के नेताओं के साथ वर्चुअल मीटिंग की और उनकी राय जानी.
विपक्षी दलों की ओर से कहा गया कि 1000 मतदाताओं वाले पोलिंग स्टेशनों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाएगा इसलिए इसे चार हिस्सों में बांटा जाए. बुजुर्गों को पोस्टल बैलेट से मतदान को खारिज किया जाए क्योंकि इसमें गोपनीयता नहीं रहेगी.
विपक्षी नेताओं को ये लग रहा है कि डिजिटल प्रचार में बीजेपी का पक्ष मजबूत है इसलिए उन्होंने कहा कि सबको प्रचार करने का समान अधिकार मिलना चाहिए. इसलिए प्रचार के परंपरागत तरीके का ही इस्तेमाल होना चाहिए न कि डिजिटल तरीके का.

उन्होंने ये भी तर्क दिया कि बिहार में स्मार्टफोन रखने वालों की संख्या भी काफी कम है. लिहाजा डिजिटल तरीके से सबतक पहुंचना संभव नहीं है. अंतिम फैसला चुनाव आयोग को ही लेना है.
मुख्य चुनाव आयुक्त और दोनो चुनाव आयुक्तों के साथ वर्चुअल मीटिंग में आरजेडी से मनोज झा, कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल, आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, वीआईपी पार्टी से राजीव मिश्रा, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी, सीपीआई से डी.राजा, सीपीआई (एमएल) से दीपांकर भट्टाचार्य और एलजेडी से शरद यादव शामिल हुए.
The post बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने विपक्षी दलों के साथ की मीटिंग, उठा ये मुद्दा appeared first on AKHBAAR TIMES.