सत्ता के नशे में डूबे अहंकारी भाजपा नेतृत्व को होश ही नहीं है कि उत्तर प्रदेश डूब रहा हैः अखिलेश यादव

Share and Spread the love

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राज्य की योगी सरकार को कई मुद्दों पर घेरा है उन्होंने कहा कि जबसे उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनी है, राज्य की प्रगति अवरूद्ध हो गई है. समाज के हर वर्ग में असंतोष है. जनता परेशान और बेहाल है.
मुख्यमंत्री जी सुबह से शाम तक मीटिंग या दौरे पर रहते है तो उनकी टीम-इलेवन का काम केवल आंकड़ों की हेराफेरी से प्रशासन की अक्षमताओं पर पर्दा डालना ही रह गया है. इतनी संवेदनहीन सरकार आज तक प्रदेश की जनता ने नहीं देखी. इस सरकार का बने रहना जनता के लिए असह्य हो रहा है.
समाजवादी सरकार में राजधानी लखनऊ में लोकभवन का निर्माण इसलिए हुआ था कि बिना भेदभाव वहां जनता की शिकायतों की सुनवाई हो सके, लेकिन भाजपा सरकार में तो कोई सुनवाई नहीं होती, फलतः भाजपा राज में गरीब की कहीं सुनवाई नहीं होती है. सरकार इस गफलत में है कि सब कुछ नियंत्रण में है, झूठी प्रशंसा में वह बहक रही है.

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य में अस्पतालों की पर्याप्त संख्या नहीं हैं. समाजवादी सरकार के समय ही अस्पताल बने थे. भाजपा ने कोई इंतजाम नहीं किए. उसने न नए अस्पताल बनवाएं और नहीं चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार किया. जीवन रक्षक दवाएं अनुपलब्ध हैं, उनकी काला बाजारी हो रही है. लोग बेमौत मर रहे हैं.
समाजवादी सरकार में रोगियों के लाभार्थ 108 और 102 एम्बूलेंस सेवाएं शुरू की गई थी वे निष्क्रिय बना दी गई है। भाजपा के हाथ ताली बजाने के लिए खाली है.
सबसे दुःखद प्रसंग यह है कि विस्थापित श्रमिक बिना रोजगार के गांव-गांव भटक रहे हैं. वे हताशा में डूब गए हैं. सरकार हवाई दावों में रोजगार बांटने के झूठे आंकड़े पेश कर रही है, जमीन पर बुरा हाल है. मुख्यमंत्री जी की टीम-इलेवन प्रदेश के हालात से बेख़बर सरकारी तामझाम का आनन्द ले रही है.
लगता है यह टीम प्रदेश को बर्बादी के कगार पर पहुंचाकर ही दम लेगी? सत्ता के नशे में डूबे अहंकारी भाजपा नेतृत्व को होश ही नहीं है कि उत्तर प्रदेश डूब रहा है. भाजपा इस सबसे बेपरवाह डूबती जनता का भी जश्न मना रही है.
The post सत्ता के नशे में डूबे अहंकारी भाजपा नेतृत्व को होश ही नहीं है कि उत्तर प्रदेश डूब रहा हैः अखिलेश यादव appeared first on AKHBAAR TIMES.