संजीत अपहरण कांड और फिल्म दृश्यम का कनेक्शन जान चौंक जाएंगे

Share and Spread the love

कानपुर के संजीत अपहरण मामले में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं. अब एक और बड़ा आरोप पुलिस पर लगा है. संजीत यादव के परिजनों की ओर से आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने अपनी थ्योरी को मजबूती देने के लिए गवाहों की टोली खड़ी की और उनका माइंड वॉश कर दिया.
परिजनों के मुताबिक गवाहों को सब सिखाया गया कि उन्हें क्या बोलना है. इसके अलावा वह कुछ बोलने को तैयार नहीं है. इस आरोप के बाद जब कुछ गवाहों से बातचीत की गयी तो बयान और सच्चाई में विरोधाभास नजर आया. जिसके बाद इसने साल 2015 में आई अजय देवगन की फिल्म दृश्यम की याद दिला दी.
अपहरणकर्ताओं ने रतनलाल नगर स्थित जिस मकान को 1500 रूपये किराए पर लिया था, उसके पड़ोस में मल्होत्रा परिवार का घर है. रविवार को जब मीडियाकर्मी पहुंचे तो महिला अंदर बाहर करते नजर आयी. जबकि आमतौर पर देखा जाता है कि इस तरह के मामलों में पड़ोस के लोग बचते नजर आते हैं.
उस महिला के मुताबिक करीब एक महीने पहले कुछ युवक पड़ोस में रहने आए थे. उनके पास गृहस्थी का सामान नहीं था. वे फोर्ड कार से देर रात आते थे. कार के आगे नंबर प्लेट पर रक्षा मंत्रालय लिखा था.
बताया कि अक्सर रात में घर से किसी के कराहने की आवाजें आती थीं. कई बार किसी महिला से बातचीत की भनक लगी थी. इसके बाद जब थाने में खड़ी कार को देखा गया तो कार के पीछे वाली नंबर प्लेट पर रक्षा मंत्रालय लिखा है.

वही संजीत के पिता ने कहा था कि पुलिस ने जिस कार से संजीत के अपहरण करने की बात कही थी वह चलने की हालत में ही नहीं थी. पुलिस अपहरण के आरोपी ज्ञानेंद्र के घर से कार को क्रेन की मदद से रतनलाल नगर चौकी पर लेकर आई. फिर उसे क्रेन से ही बर्रा चौकी लाया गया. ऐसे में महिला द्वारा दी गयी कार के बारे में जानकारी कुछ हजम नहीं हुई.
शनिवार को एक मैसेज वायरल हुआ. जिसमें बर्रा तीन स्थित दुकान का पता दिया था, जहां से संजीत के परिजनों पर चूरन वाले नकली नोट खरीदने का आरोप लगा था. दुकानदार से बातचीत करने पर सामने आया कि 13 जुलाई को एक 30 से 35 साल का युवक 500 रूपये के चूरन वाले नोट की चार गड्डियां खरीदकर ले गया था.
दुकानदार के मुताबिक वह सालों से चूरन वाले नोट बेच रहा है. सुबह से शाम तक कई ग्राहक आते हैं. फिर भी उसी ग्राहक के दुकाने में आने तक की तारीख याद रखना एक बड़ा सवाल. ये सब बयान दृश्यम फिल की याद दिलाते हैं. जिसमें जब फिल्म का नायक अपने आप को बेगुनाह साबित करने के लिए अपने पक्ष में गवाहों की एक टोली खड़ी कर देता है.
The post संजीत अपहरण कांड और फिल्म दृश्यम का कनेक्शन जान चौंक जाएंगे appeared first on AKHBAAR TIMES.