मोदी सरकार का फैसला, प्राइवेट यात्री ट्रेनों के बाद अब चलेंगी प्राइवेट मालगाडियां

Share and Spread the love

केंद्र की मोदी सरकार का दावा भले ही हो कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जाएगा मगर एक के बाद एक ऐसे फैसले लिए जा रहे हैं जो सरकार के इन दावों के बिल्कुल उलट हैं. सरकार के ताजा निर्णय के अनुसार अब रेलवे प्राइवेट मालगाडियां भी चलाने जा रहा है.
सरकार ने घोषणा की है कि मार्च 2023 से प्राइवेट ट्रेनें पटरी पर दौड़नी शुरू हो जाएंगी. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा कि 2023 में प्राइवेट ट्रेनों के रोलआउट से पहले रेलवे रेगुलेटर बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि डीएफी तैयार होने के बाद हम प्राइवेट मालगाड़ी को चलाने की योजना बना रहे हैं.
इस तरह रेगुलेटर के पास पैसेंजर ट्रेनों और मालगाड़ियों को रेगुलेट करने की जिम्मेदारी होगी. भारतीय रेलवे ने 2023 से प्राइवेट ट्रेनें चलाने की दिशा में टाइमलाइन जारी करते हुए कहा कि वर्ष 2026-27 तक कुल 151 प्राइवेट ट्रेने चलाने की योजना है.

साल 2023 में इसके पहले चरण की शुरूआत होगी जिसमें 12 ट्रेनों का संचालन किया जाएगा. प्राइवेट ट्रेनों को चलाने के लिए निजी कंपनियों की ओर से शुरूआती चरण में तकरीबन 30 हजार करोड़ का निवेश किया जाएगा.
रेलवे के अनुसार इनमें से 70 फीसदी प्राइवेट ट्रेनों का निर्माण भारत में मेक इन इंडिया अभियान के तहत होगा. इसे चलाने वाली प्राइवेट कंपनी ही उसके खरीद, मेंटेनेंस और ट्रांसपोर्टेशन के लिए जिम्मेदार होगी.
The post मोदी सरकार का फैसला, प्राइवेट यात्री ट्रेनों के बाद अब चलेंगी प्राइवेट मालगाडियां appeared first on AKHBAAR TIMES.