राफेल के असली हीरो ‘हिलाल अहमद’ की कहानी, जिस पर पूरा देश नाज कर रहा है

Share and Spread the love

image credit-social mediaराफेल ने जैसे ही भारत देश के लिए फ्रांस से उड़ान भरी, तो इस पहले बैच में एयर कोमोडोर हिलाल अहमद भी मौजूद थे. हिलाल के साथ फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ और राफेल बनाने वाली कंपनी दसॅा एविएशन के चेयरमैन एरिक ट्रैफियर भी इस समारोह का हिस्सा थे.
गौरतलब है कि एयर कोमोडोर हिलाल अहमद जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले से आते हैं. उन्होंने जिले के बख्शियाबाद स्थित सैनिक स्कूल से शिक्षा प्राप्त की थी. हिलाल को लेकर कश्मीरियों में क्या पूरे देश में उत्साह का माहौल है, ट्विटर पर ANANTNAG टाप ट्रेंड में हैं.
कश्मीर के लोग इस बात पर गर्व कर रहे हैं कि राफेल में बैठने वाला पहला व्यक्ति अनंतनाग का है. कुछ लोग हिलाल के जरिए पाकिस्तान को चिढ़ा भी रहे हैं. @Beingsajiddarr ट्विटर हैंडल से अक्टूबर 2019 का एक वीडियो शेयर किया जिसमें हिलाल अहमद राफेल की शस्त्र पूजा की तैय़ारियों में जुटे हुए दिखाई दे रहे हैं.
ट्वीट में लिखा गया कि प्रिय पाकिस्तान, कृपया इस वीडियो को देखो! एक कश्मीरी एयर कोमोडोर हिलाल अहमद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में आयोजित समारोह में एक सिख ग्रुप कैप्टन आनंद के साथ शस्त्र पूजा की तैयारी कर रहा है. अब खालिस्तान और कश्मीर पर रोते रहो.
एक अन्य यूजर ने हिलाल को अपना गौरन बताय और कहा कि .ये कश्मीर के लिए गौरन का क्षण है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि राफेल का पहला पायलट विंग कमांडर हिलाल अहमद राठेर कश्मीर के अनंतनाग से हैं. उन्होंने एनडीए में आनर आफ सार्ड जीता था और अभी तक वो भारत के कुशल पायलटों में से एक के रुप में जाने जाते हैं.
इसी क्रम में एक अन्य ट्विटर यूजर ने लिखा यूनीफार्म में दिख रहा व्यक्ति भारतीय वायुसेना के एयर कमोडोर हिलाल अहमद हैं, वो कश्मीर के अनंतनाग के रहने वाले हैं. वास्तव में ये गौरव का क्षण है.
गौरतलब है कि एयर कमोडोर हिलाल अहमद भारतीय वायुसेना में 1988 में बतौर फ्लाइट लेफ्टिनेंट शामिल हुए थे और अब तक वो एयर कमोडोर के पद पर पहुंच चुके हैं. एयर कमोडोर हिलाल अहमद को साल 2010 में वायुसेना मेडल से नवाजा जा चुका है.

Dear Pakistani
Kindly see this video !
A #Kashmiri Man known as Air Commodore Hilal Ahmed Rather along with #Sikh Man Group Captain Anand preparing for #ShahtraPooja during ceremony attended by Def. Minister.
Now Cry on #Khalistan and #Kashmir pic.twitter.com/crdujsFWfe
— Sajid (@Beingsajiddarr) July 27, 2020

The first Pilot to fly #Rafale is Wing Commander Hilal Ahmed Rather from Anantnag, Kashmir.
He has won Sword of honour in NDA when he passed out and is presently one of finest fighter pilot of India.
Proud moment for Kashmir. He is our Pride. pic.twitter.com/CK8jfGpjkd
— Showkat Qureshi (@ShowkatQureshi_) July 28, 2020

Sharing a very good news with you and shocking news for Pakistan.
The first Pilot to fly #Rafale is Air Commodore Hilal Ahmed Rather from Anantnag South #Kashmir. Presently he is Indian Defence Attaché in Paris France and he is one of finest fighter Pilot of India. pic.twitter.com/4sbQgYShfn
— Asim Khan (@AsimKhanTweets) July 28, 2020

The man in uniform is Air commodore Hilal Ahmad of Indian Air Force from Anantnag, South kashmir. A proud moment indeed.@TheSkandar @rainarajesh @AdityaRajKaul @hussain_imtiyaz @DrSuneem @dograjournalist @nto1927 @AartiTikoo @Tahir_A @Vedmalik1 pic.twitter.com/fTzjfZlGq1
— Shahid Hassan (@Shah1d_hassan) July 28, 2020

The post राफेल के असली हीरो ‘हिलाल अहमद’ की कहानी, जिस पर पूरा देश नाज कर रहा है appeared first on AKHBAAR TIMES.