राम मंदिर आंदोलन के वो प्रमुख चेहरे जो भूमि पूजन में नहीं आ रहे नजर

Share and Spread the love

अयोध्या में आज भगवान राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन हो रहा है. कोरोना संकट के बीच हो रहे इस कार्यक्रम के लिए खास तैयारियां की गयीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए हैं.
बीते साल 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया था. जिसके बाद अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ़ हुआ. मंदिर निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार एक ट्रस्ट का गठन किया गया था.
अब जब अयोध्या में भूमि पूजन हो रहा है तो मीडिया के कैमरे इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों पर हैं. लेकिन राम मंदिर आंदोलन के कई प्रमुख चेहरे इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए हैं.
जब सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था तो भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने विश्व हिन्दू परिषद के दिवंगत नेता अशोक सिंघल को भारत रत्न दिए जाने की मांग की थी. अशोक सिंघल राम मंदिर आन्दोलन के अग्रणी नेता था. उनका चार साल पहले ही निधन हुआ.
इस आंदोलन में 1990 के दशक में भाजपा के पूर्व अध्यक्ष लालकृष्ण अडवाणी सबसे प्रमुख चेहरा बने. बीजेपी की नेता उमा भारती ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अशोक सिंघल और अडवाणी का अभिनंदन किया. यही नहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी अडवाणी को बधाई दी थी.
राम मंदिर आंदोलन में शामिल प्रमुख नेताओं में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, प्रवीण तोगड़िया और विष्णु हरि डालमिया के नाम हैं.
बताया जा रहा है कि लालकृष्ण अडवाणी, मुरली मनोहर जोशी स्वास्थ्य कारणों की वजह से कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए हैं. जबकि उमा भारती ने बताया कि वे अयोध्या तो आएंगी लेकिन कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी. जिसकी वजह उन्होंने कोरोना संकट बताई.
The post राम मंदिर आंदोलन के वो प्रमुख चेहरे जो भूमि पूजन में नहीं आ रहे नजर appeared first on AKHBAAR TIMES.