पायलट और कांग्रेस की सुलह पर मायावती बोलीं- पता नहीं फिर कब गहलोत-पायलट…

Share and Spread the love

लंबे समय तक चले सियासी खींचतान के बाद आखिरकार सचिन पायलट मान गए और राजस्थान में गहलोत सरकार पर जारी संकट ख़त्म हुआ. पायलट ने पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ बातचीत की, जिसके बाद बात बनी. ऐसे में बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने तंज कसा है.
बसपा सुप्रीमो ने कहा कि राजस्थान के राज्यपाल को राज्य में गंभीर राजनीतिक स्थिति का संज्ञान लेना चाहिए ताकि लोगों को राजनीतिक अनिश्चितता से छुटकारा मिल सके.
उन्होंने कहा कि राजस्थान में भले ही कांग्रेस सरकार हाल में विधायकों की बगावत से बच गयी लेकिन कोई नहीं जनता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच फिर कब से ड्रामा शुरू हो जाए.
मायावती ने कहा कि गहलोत और पायलट के बीच खींचतान के चलते राज्य में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई और जनता के अन्य महत्वपूर्ण काम प्रभावित हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह की स्थिति में लोगों की विभिन्न समस्याओं को ध्यान में रखते हुए राज्यपाल को गंभीर राजनीतिक स्थिति का संज्ञान लेते हुए अपने संवैधानिक दायित्व का निर्वहन करना चाहिए. यह हमारा आग्रह है.
ऐसी ख़बरें आई कि भाजपा जरूरत पड़ने पर उसकी सरकार भगवान परशुराम की बड़ी प्रतिमा लगवाएगी. इस पर बसपा अध्यक्ष ने कहा कि बसपा इसका विरोध नहीं करेगी बल्कि स्वागत करेगी. भाजपा को ऐसे कदम में विलंब नहीं करना चाहिए. उनकी जयंती को सरकारी छुट्टी घोषित करना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर भाजपा ये दोनों काम नहीं करती है तो बसपा के सत्ता में आने पर वह करेगी.
The post पायलट और कांग्रेस की सुलह पर मायावती बोलीं- पता नहीं फिर कब गहलोत-पायलट… appeared first on AKHBAAR TIMES.