गहलोत के निकम्मा वाले बयान पर बोले सचिन पायलट, दी ये प्रतिक्रिया

Share and Spread the love

सचिन पायलट के तेवर नरम पड़ने के साथ ही राजस्थान कांग्रेस में मचा सियासी संकट थम गया है. पिछले काफी दिनों से जारी सियासी घमासान के बीच जमकर बयानबाजी हुई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार पायलट पर निशाना साधते रहे और तीखी बयानबाजी की. इस बीच उन्होंने सचिन पायलट को निकम्मा भी कह दिया था.
पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने अब इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अशोक गहलोत मुझसे बड़े हैं. मैं उनका सम्मान करता हूं, लेकिन मुझे भी काम के मुद्दे उठाने का हक है.
पायलट ने कहा कि मैंने अपने परिवार से कुछ मूल्य सीखे हैं. मुद्दा यह नहीं कि मैं किसी आदमी का कितना विरोध करता हूं, लेकिन इस तरह की भाषा इस्तेमाल नहीं करता. सार्वजानिक तौर पर बोलते वक्त एक लक्ष्मण रेखा होनी चाहिए. राजनीति में निजी दुश्मनी की कोई जगह नहीं होती.
उन्होंने कहा कि राहुल और प्रियंका ने हमारी आपत्तियां दूर करने के लिए रोडमैप तैयार करने का भरोसा दिया है. हमने जो मुद्दे रखे थे, उनके समाधान के लिए 3 सदस्यों की कमेटी बनाई गयी है.
पायलट का कहना है कि उनकी मांग पद की नहीं है बल्कि पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मान और कामकाज से जुड़े मुद्दे उठाए हैं. पार्टी ने जो भी जिम्मेदारियां दी हैं, उन्हें निभाने के लिए तैयार हूं. कहा कि बीते डेढ़ साल में काम की रफ़्तार धीमी हुई. हमें लग रहा था कि जनता से जो वादे किए, वे पूरे नहीं हो पा रहे हैं.
राजद्रोह के नोटिस को लेकर सचिन पायलट ने कहा कि जिस तरह राजद्रोह की धरा में नोटिस दिया गया और 25 दिन बाद वापस लिया गया, उससे दुःख हुआ. हम कोर्ट गए कई मुकदमें हुए. इसे रोका जा सकता था. बदले की राजनीति नहीं होनी चाहिए.
कहा कि पार्टी की विचारधारा, सरकार और पार्टी लीडरशिप के खिलाफ कुछ नहीं बोला. हमने सिर्फ कामकाज के तरीके पर सवाल उठाये. ये हक़ है हमारा. पद आते जाते रहते हैं. मुझे इनका कोई लालच नहीं है. मेरी राजनीति सत्य और सिद्धांतों पर आधारित है.
गौरतलब है कि सचिन पायलट के बागी रुख अपनाने के बाद पार्टी ने उन्हें उपमुख्यमंत्री के पद से हटा दिया था. साथ ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद भी वापस ले लिया था.
The post गहलोत के निकम्मा वाले बयान पर बोले सचिन पायलट, दी ये प्रतिक्रिया appeared first on AKHBAAR TIMES.