सोनिया गांधी ने कहा- यह भारतीय लोकतंत्र के लिए टेस्टिंग टाइम, असहमत होने की आजादी है या नहीं?

Share and Spread the love

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कुछ सवाल उठाए. उन्होंने यह भारतीय लोकतंत्र के लिए टेस्टिंग टाइम बताया. सोनिया गांधी ने कहा कि लोगों को समझना होगा कि सवाल पूछने या असहमति जताने का अधिकार उनके पास है या नहीं.
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जिस दिन से देश आजाद हुआ है, उसके बाद से लगातार देश ने लोकतांत्रिक मूल्यों को परखा है. हर टेस्ट के बाद हमारा लोकतंत्र लगातार विकास किया है.
उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार लोकतांत्रिक और संवैधानिक सिस्टम के विपरीत काम कर रही है. यह भारतीय लोकतंत्र के लिए टेस्टिंग टाइम है. उन्होंने कहा कि फिलहाल ऐसा वक्त चल रहा है जब देश के नागरिकों को यह सोचना और समझना होगा कि आखिरकार स्वतंत्रता से क्या मतलब होता है.
सच्चे अर्थों में इसके क्या मायने हैं. लोगों को यह आत्म विश्लेषण करना होगा कि देश में लिखने, बोलने, सवाल पूछने, असहमत होने, अपने निजी विचार के होने और किसी को जवाबदेह बनाने का अधिकार है या नहीं.
सोनिया गांधी ने कहा कि जिम्मेदार विपक्ष के नाते हमारी ये जिम्मेदारी बनती है कि भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था को बचाए रखने के लिए संघर्ष करें. भारत की पहचान केवल लोकतांत्रिक देश के रूप में नहीं है. यह एक ऐसा देश है जहां भाषाई, जातिगत, धर्म के आधार पर विविधता होने के बाद भी एकता दिखती है. विविधता में एकता ही हमारी पहचान है.
The post सोनिया गांधी ने कहा- यह भारतीय लोकतंत्र के लिए टेस्टिंग टाइम, असहमत होने की आजादी है या नहीं? appeared first on AKHBAAR TIMES.