चंपारण में यूरिया की भारी किल्लत, सरकार जल्द उपलब्धता सुनिश्चित करेंः अजय प्रकाश पाठक

Share and Spread the love

बिहार राज्य का चंपारण एक कृषि प्रधान जिला है. यहां किसानों की संख्या ज्यादा है. अधिकांश जनसंख्या खेती किसानी पर निर्भर है, किसान देश और समाज का अन्नदाता है. चूंकि पहले ही इस साल सामान्य से ज्यादा बारिश होने से और बाढ़ से काफी फसल बरबाद हो गई है, जो किसान अपनी फसलों से उम्मीद पाले थे वो निराशा के गर्त में डूबते जा रहे हैं. ये बातें बाबूधाम ट्रस्ट के मुखिया अजय प्रकाश पाठक ने कही.
उन्होंने कहा कि किसान पहले से ही काफी परेशान था और रही सही कसर यूरिया की भारी किल्लत और कालाबाजारी ने दोहरी मार से पूरी कर दी. यूरिया के बिना किसान खेती कैसे करेंगे और उनका भरण-पोषण कैसे होगा जो खेती पर निर्भर हैं.
अजय पाठक ने कहा कि जहां यूरिया मिल रही है वो काफी महंगी मिल रही है. लूट के इस तरीके से व्यापारी किसानों का शोषण कर रहे हैं. रामनगर, नरकटियांज, सिकटा, लौरिया, बगहा, धनहा और चनपटिया आदि जगहों पा यूरिया की पूर्ति किसानों को सही नहीं हो पा रही है.

बाबूधाम ट्रस्ट के मुखिया ने कहा कि जब किसानों को सस्ती बीज, खाद ऑर सहायता नहीं मिले तो किसान कैसे खेती करेगा. पहले ही किसानों की खेती वैज्ञानिक तरीके से नहीं हो पा रही है क्योंकि किसानों के लिए राजनीतिक रुचि नहीं होने के वजह से सरकार और संस्थाएं पूरी ईमानदारी से प्रयत्न नहीं करती, केवल दिखावा ही करती हैं.
अजय प्रकाश पाठक ने कहा कि सरकार यूरिया की कालाबाजारी को तुरंत रोके और किसानों को राहत देने का काम करे. उन्होंने कहा कि जब तक देश का अन्नदाता तरक्की नहीं करेगा देश कभी आगे नहीं बढ़ सकता.
The post चंपारण में यूरिया की भारी किल्लत, सरकार जल्द उपलब्धता सुनिश्चित करेंः अजय प्रकाश पाठक appeared first on AKHBAAR TIMES.