हाईकोर्ट ने रद्द की 29 विदेशी तबलीगी जमातियों के खिलाफ FIR, कहा इन्हें बली का बकरा बनाया गया

Share and Spread the love

जिन तबलीगी जमातियों को सरकार और मीडिया के एक धड़े ने मिलकर देशभर में कोरोना वायरस फैलाने का जिम्मेदार ठहराया, जिनपर कोरोना जिहाद का इल्जाम लगाया गया, आज उनमें से 29 विदेशी जमातियों के खिलाफ हुई एफआईआर अदालत ने ये कहते हुए रद्द करने का आदेश दिया कि इन्हें सरकार ने बली का बकरा बनाया है.
बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद बेंच के जस्टिस टीवी नलवाड़े और जस्टिस एमजी सेवलिकर की बेंच ने तीन अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि जमात से जुड़े लोग भारत सरकार द्वारा जारी वीजा पर भारत आए थे, उनके यहां आने का मकसद था कि वो भारत की संस्कृति, आतिथ्य और भोजन का अनुभव करें.

पीठ ने पाया कि राज्य सरकार के राजनीतिक मजबूरी के तहत काम किया और विदेशी नागरिकों के खिलाफ एफआईआर को दुर्भावनापूर्ण मानकर एफआईआर को रद्द कर दिया. जस्टिस नलवड़े ने अपने फैसले में कहा कि जब महामारी या विपत्ति आती है तो सरकार बली का बकरा ढूढ़ने की कोशिश करती है और अभी के हालात ये बता रहे हैं कि इस बात के आसार हैं कि इन विदेशी तबलीगी जमातियों को बलि का बकरा बनाने के चुना गया.
जमातियों ने अदालत को बताया कि हवाई अड्डे पर उनकी जांच की गई इसके बाद ही उन्हें बाहर जाने दिया गया था. उन्होंने कहा कि अहमदनगर के पुलिस अधीक्षक को उनके आने की जानकारी थी. लॉकडाउन के एलान के बाद जब वाहनों की आवाजाही बंद हो गई, होटल और लॉज बंद कर दिए गए तो उन्हें मजबूरन मस्जिद में ठहरना पड़ा.
The post हाईकोर्ट ने रद्द की 29 विदेशी तबलीगी जमातियों के खिलाफ FIR, कहा इन्हें बली का बकरा बनाया गया appeared first on AKHBAAR TIMES.