सिंधिया का बीजेपी में जाने का फैसला सही या गलत? मायावती पर करेगा निर्भर?

Share and Spread the love

मध्यप्रदेश की राजनीति में कांग्रेस भले ही सत्ता से बेदखल हो गई हो लेकिन अभी भी सत्ता में वापस लौटने का दमखम दिखाती हुई नजर आ रही है. पूर्व सीएम कमलनाथ ने अभी हार नहीं मानी है इसलिए वो सूबे में पार्टी की वापसी के लिए पुरजोर कोशिशों में लगे हुए हैं. इसी के तहत कमलनाथ इस समय अपनी अलग किस्म की राजनीति धारण करते हुए नजर आ रहे हैं.
मध्यप्रदेश में होने वाले उपचुनावों में 27 में से कम से कम 10 से 12 सीटों पर कांग्रेस को जीत दिलाना है. बता दें कि 22 सीटें तो वो हैं कांग्रेस के ही हिस्स की है सिंधिया के बगावती रुख के बाद कांग्रेस के 22 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और बीजेपी में शामिल हो गए थे. देखा जाए तो राज्य में कमलनाथ के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है लेकिन वो उपचुनाव में 10 से 12 सीटों पर विजय हासिल कर लेते हैं तो आने वाले समय में वो भी उसी खेल को खेल सकते हैं जो बीजेपी ने खेला था.

मायावती बिगाड़ेंगी कांग्रेस का खेलः
वहीं सिंधिया के लिए उपचुनाव बड़ी चुनौती है जिससे स्पष्ट होगा कि जनता ने उनको बीजेपी में जाना स्वीकार किया है या नहीं. उनके सामने कांग्रेस की 22 सीटों  को जिताने की होगी, अगर चुनाव में कांग्रेस बाजी मार ले जाती है तो सिंधिया का हर तरह से नुकसान होगा. बीजेपी के अंदर भी उनकी स्थिति कमजोर होगी.
इस हालात में बीएसपी सुप्रीमों मायावती सिंधिया की मदद कर सकती हैं. कहा जा रहा है मायावती कांग्रेस से बेहद नाराज हैं कारण राजस्थान प्रकरण. इस वजह से मायावती उपचुनाव में 27 सीटों पर प्रत्याशी उतार सकती है अगर ऐसा है तो ये कांग्रेस के लिए बेहद बुरा साबित होगा, क्योंकि आधे से अधिक सीटों पर बीएसपी का अच्छा प्रभाव है. जो कांग्रेस को ही घाटा पहुचाएगा.
The post सिंधिया का बीजेपी में जाने का फैसला सही या गलत? मायावती पर करेगा निर्भर? appeared first on AKHBAAR TIMES.