छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह भेजे गए जेल, अनीश राजा ने भरी हुंकार, छात्र हितो..

Share and Spread the love

कोरोना काल में JEE और NEET एवं अन्य परीक्षाओं के विरोध में लखनऊ राजभवन के बाहर पिछली 27 तारीख को शांतिपूर्ण प्रदर्शन के बावजूद योगी सरकार की पुलिस द्वारा बेरहमी से लाठीचार्ज एवं अनैतिक व्यवहार कर मुलायम सिंह  यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीश राजा को हिरासत में लिया गया था.
आज पुनः कोरोनाकाल में परीक्षा कराने के विरोध में सड़कों पर उतरे सपा छात्रसभा कार्यकर्ताओं पर ‘ख़ूनी हमला’ हुआ है. छात्र हितों की बात करने वाली योगी सरकार दो मुँहे सांप क़ी तरह हैं.
योगी सरकार नौजवानों/छात्रों से इतनी डरी हुई है कि लखनऊ इको गार्डेन से छात्र सभा के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव,अवनीश यादव, दिलीप कृष्णा, नितेंद्र सिंह गोंडा, अमित यादव तुषार त्रिपाठी, हिमांशु यादव पुरैनी, हिमांशु कुमार एवं तमाम समाजवादी साथियों को जेल भेज दिया गया.

छात्र हितों का हनन हुआ तो खून बहेगा सड़कों पर..
इंकलाब जिंदाबाद..
इसी क्रम में सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना काल में परीक्षा कराने के विरोध में उतरे सपा के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज नहीं खूनी हमला हुआ है. सत्ताधारी अपना दम्भ त्यागकर नौजवानों की मांग सुने. ये जनतंत्र है, मनतंत्र नहीं.
सोमवार को समाजवादी छात्र सभा के निर्वतमान अध्यक्ष श्री दिग्विजय सिंह ‘देव‘ के नेतृत्व में जब छात्र हितों के मुद्दों को लेकर सैकड़ों नौजवान प्रदेश की राज्यपाल महोदया को ज्ञापन देने जा रहे थे, गौतमपल्ली थाने के पास उन पर बर्बर लाठीचार्ज किया गया.
पुलिस ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष श्री अवनीश यादव, मनोज दुबे, जगराम पासवान, अमित कुमार, हिमांशु पुरैनी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस लाठीचार्ज से एक दर्जन युवा नेता घायल हुए है। इनमें वाराणसी के छात्रनेता महेश यादव एवं सिद्धार्थ नगर के मोनू दुबे की हालत गम्भीर है.
समाजवादी छात्र सभा के ज्ञापन में मांग की गई कि नीट, जेईई सहित विभिन्न प्रतियोगी तथा स्नातक, परास्नातक की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं स्थगित की जाय. छात्रों पर फीस जमा करने के लिए दबाव न बनाएं और उस कारण परीक्षाफल न रोका जाय। भाजपा सरकार द्वारा शिक्षण संस्थानों के निजीकरण पर रोक लगे तथा लखनऊ विश्वविद्यालय में अतिथि प्रवक्ता के 245 पदों पर आरक्षण नियमावली के तहत ही भर्तियां हों.
आज के छात्र आंदोलन में मुख्य रूप से लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता सर्वश्री महेन्द्र सिंह यादव, अंकित सिंह बाबू, विवेक बाबा, सुश्री पूजा यादव, राहुल सिंह, गौरव पाण्डेय, अरविन्द यादव, रोहित सिंह, शिवम कृष्णा, अभिषेक मिश्रा, सर्वेश शुक्ला, धीरज श्रीवास्तव, अनुज अन्नू, सुश्री जेबा यास्मीन, मिष्ठी खरे, अमर सिंह, वैभव सैनी, सुब्रत अवस्थी, लकी सिंह, जयसिंह प्रताप, आर.पी. सिंह, संदीप कश्यप, कौशलेन्द्र सिंह, नितेश सिंह, मयंक यादव, मंजीत मलिहाबाद, निहाल कुरैशी, धीरज यादव, मेराज अहमद, दीपक आदि थे.

The post छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह भेजे गए जेल, अनीश राजा ने भरी हुंकार, छात्र हितो.. appeared first on AKHBAAR TIMES.