पीएम का 20 लाख करोड़ का पैकेज झांसा, गरीबों के लिए इसमें कुछ नहींः कांग्रेस नेता ललन कुमार

Share and Spread the love

कोरोना संकट से देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से घोषित 20 लाख करोड़ के पैकेज को लेकर अब राजनीतिक दलों ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. उनका कहना है कि ये सिर्फ अमीरों को राहत देने के लिए है, इसमें गरीबों के लिए कुछ भी नहीं है.
बिहार कांग्रेस की युवा इकाई के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार ने कहा है कि राहुल गांधी व विश्व के जाने माने अर्थशास्त्रियों के सुझाव अनुसार आम आदमी, गरीब मजदूर, किसान, छोटे व्यवसायी, असंगठित कामगारों के छीने कामों को पुनः त्वरित गति देने के लिए मुद्रा वितरण कर अर्थव्यस्था को बहुत तेजी से पटरी पर लाना था. पर दबाव में आये प्रधानमंत्री ने अर्थव्यवस्था को त्वरित गति देने के बजाय झांसा देने की ही कोशिश की है.
image credit-twiterप्रधानमंत्री की ओर से 20 लाख करोड़ पैकेज की घोषणा, में से 66 प्रतिशत पूर्व की बजटीय योजनाओं में से है. आज वित्त मंत्री द्वारा 6 लाख करोड़ की विस्तृत जानकारी देते ही ये 6 लाख करोड़ भी झांसा पैकेज सिद्ध हो गया. उन्होंने कहा कि या तो प्रधानमंत्री मोदी को पैकेज का मतलब नहीं पता या सबकुछ जानते हुए जनता को झांसे में रखने की आदत सी हो गई है.
ललन कुमार ने कहा कि अधिकांश घोषित राशि छूट है या छूट की समय सीमा बढाई गयी है. उसके अनुमानित राशि को पैकेज कहना ही गलत है. एमएसएमई सेक्टर, कुटीर उद्योग व आम जनता तक के निजी ऋण के लिए 30 हजार करोड़ की राशि बहुत ही छोटी राशि है. इससे ज्यादा राशि तो पिछले बजट में एमएसएमई सेक्टर के लिए घोषित की गयी थी. तब भी यह अमाउंट लोन लेना होगा जिसका गारंटर केंद्र होगा और चार वर्षों का लोन होगा फिर ये पैकेज कैसे है?

कांग्रेस नेता ने कहा कि पीएफ, टीडीएस, व डायरेक्ट टैक्स में समय सीमा की छूट या टैक्स की छूट दी गयी है, जो कि अच्छा कदम तो है पर पैकेज नहीं है. इससे इकोनॉमी में वांछित तेजी नहीं आयेगा. डिस्कॉम सेक्टर, का 90 हजार करोड़ का गारंटर भी राज्य सरकार को ही बनना है तो इसमें केंद्र कहां है? पैकेज कहां है? अनुमानित 45 हजार करोड़ का रेलवे, सड़क व पीपीपी मोड़ वाले या अन्य निर्माण कार्य कर रहे कॉन्ट्रैक्टर्स को बैंक गारंटी व समय सीमा की सुविधा दी गयी है.
बैंक गारंटी के गारंटर राज्य होंगे, इसको पैकेज कैसे कहेंगे? वैसे ही रियल एस्टेट सेक्टर को भी समय सीमा या लाइसेंस अपग्रेडेशन की सुविधा दे राशि का अनुमान लगा लिया गया है. इसी तरह पूरा पैकेज ही झांसा लगता है. सरकार वहीं की वहीं है क्योंकि ये इनकी मजबूरी भी है. सबकुछ जब लुटा चुके हों तो घोंषणा क्या कर सकते है, झांसा दे सकते हैं पूर्व के और भविष्य के खर्चे जोड़ अनुमान बताना पैकेज नहीं होता. ललन कुमार ने कहा कि इस पूरे पैकेज में गरीबों, किसानों मजदूरों और कमजोर वर्ग के लोगों के लिए कुछ भी नहीं है जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है.
The post पीएम का 20 लाख करोड़ का पैकेज झांसा, गरीबों के लिए इसमें कुछ नहींः कांग्रेस नेता ललन कुमार appeared first on AKHBAAR TIMES.